तांडव
Advertisement

इलाहबाद हाई कोर्ट ने ‘तांडव’ वेब सीरिज पर उठे विवाद पर अपना फैलसा सीरिज के विरोध में सुनाया है, कोर्ट ने अपर्णा पुरोहित की गिरफ्तारी से राहत वाली याचिका ख़ारिज कर दी है.

तांडव

दरअसल कुछ समय पूर्व में रिजील हुई ‘तांडव’ नामक एक वेब सीरिज में हिंदू देव देवताओं को अपमानित करने के दृश्य दिखाए गए थे, जिसके बाद से इस वेब सीरिज का देश भर में प्रखर विरोध होने लगा और बात कोर्ट तक पहुंच गई.

Advertisement

आरोपों से बचने के लिए OTT प्लेटफॉर्म ऐमज़ॉन की इंडिया ऑरिजिनल कॉन्टेंट हेड अपर्णा पुरोहित ने इलाहबाद उच्च न्ययालय में एक याचिका दाखिल की, किंतु कोर्ट ने स्पष्ट शब्दों में यह कहकर याचिका ख़ारिज कर दी की “हिंदू देवी देवताओं का इस तरह अपमान नहीं सहा जा सकता”.

‘तांडव’ को लेकर ये हैं पूरा विवाद

वेब सीरिज ‘तांडव’ में जहां बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सैफ अली खान मुख्य भूमिका में नजर आ रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ़ वेब सीरिज ‘तांडव’ के एक दृश्य में कला प्रदर्शन और नाटक के दौरान दो अभिनेताओं ने भगवान शिव और प्रभु श्री राम का मजाकिय रूप अपमान करते हुए दिखाई दे रहे हैं, जिसके बाद से इस पर विवाद बहुत गरमाया हुआ है.

‘तांडव’ पर कोर्ट ने अपने फैसले में कही ये बातें

  • अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर देवी-देवताओं का अपमान किया जा रहा है
  • जातीय और धार्मिक भावनाओं को भड़काने की कोशिश की गई और ऐसा लगता है कि देवी देवताओं के अपमान के पीछे कोई निश्चित योजना काम कर रही है
  • दूसरे धर्म का अपमान कमाई का जरिया बन गया है
  • फिल्म के जरिये देश और राज्य की छवि खराब करने की कोशिश की जाती हैं और पुलिस, प्रशासन एवं संवैधानिक पदों का गलत चित्रण किया जाता है
  • अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार का हनन नहीं किया जा सकता
  • सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों के खिलाफ सख्ती जरूरी है
  • फिल्म की शुरूआत में डिस्केलमर दे देने से जवाबदेही खत्म नहीं होती
  • कोर्ट ने कहा कि अगर इस प्रव़ृति पर लगाम नहीं लगाई गई जो कुछ भी फिल्म और वेब सीरीज में दिखाया जा रहा है, देश की युवा पीढ़ी उसे ही सच मान लेगी

इसे भी पढ़ें:-

“हज करने वाले प्रत्येक भारतीय की पहचान हिंदू है” –योगी आदित्यनाथ का बयान
Advertisement

By Sachin

One thought on “हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने वाली वेबसीरिजों को तगड़ा झटका, कोर्ट ने ‘तांडव’ पर सुनाया फैसला”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *