Advertisement

यूपी में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के बिच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर फेक न्यूज़ का दौर भी शुरू हो चूका है.

उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बिच CM योगी आदित्यनाथ पर झूठे आरोप लगाने का भी ट्रेंड शुरू हो गया है, इसमें सबसे पहला नाम है भारत समाचार के एडिटर इन चीफ ब्रजेश मिश्रा का. इन्होंने CM के खिलाफ़ एक झूठी खबर फैलाई थी, मगर बाद में उत्तर प्रदेश सरकार के आधिकारिक फैक्ट चेकिंग हैंडल ने इसको सिरे से गलत करार दिया.

योगी आदित्यनाथ

Advertisement

योगी आदित्यनाथ पर वायरल की फेक न्यूज़

UP के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ पर भारत समाचार के एडिटर इन चीफ ब्रजेश मिश्रा ने ट्विट करके आरोप लगाया की “यूपी में कोरोना के किसी गंभीर मरीज को भर्ती होना है तो उसे सम्बंधित जिले के CMO से अनुमति पत्र लेना होगा, ऐसे लटकाने-अटकाने-भटकाने वाले आदेश जनता पर अत्याचार के समान है, कोरोना मरीज अस्पताल मे सीधे भर्ती नहीं हो सकते, सरकार को चाहिए की ऐसे आदेश वापस ले, पहले जीवन बचाना ज़रूरी है”.

इस फेक न्यूज़ के प्रकाशित होते ही वामपंथी भी इसके समर्थन में आ गए और वंशिका जनचेतना फाउंडेशन ट्विट करके कहा की “ये अत्याचारी सीएम है जिसने शव के ढेर लगने के बाद अब यूपी में कोरोना के किसी गंभीर मरीज को भर्ती के लिए उत्पीड़न- करने वाले आदेश दिए, जिससे आम जनता इन्हें वोट दे पछता रही है, अत्याचारी योगी आदित्यनाथ राज में कोरोना मरीज सीधे भर्ती नहीं हो सकते, जिले के सीएमओ से अनुमति पत्र लेना होगा”.

योगी आदित्यनाथ पर खबर निकली झूठी

कोरोना को लेकर फेक न्यूज़ के वायरल होने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार के आधिकारिक फैक्ट चेकिंग हैंडल ने ट्विट के जरीय इस झूठ की पोल खोली, ट्विट में लिखा की “ये दावें फर्जी हैं, कोरोना संक्रमित मरीज को इंटिग्रेटेड कोविड एंड कमांड कंट्रोल रूम की मदद से एम्बुलेंस से लेकर टेस्ट और अस्पताल में भर्ती करने की व्यवस्था की जाती है, इसके लिए कहीं सीएमओ से अनुमति की आवश्यकता नहीं है”.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

योगी: “ना तो लॉकडाउन लगाऊंगा, ना ही लोगों को दुःख में मरने दूंगा”

Advertisement

By Sachin

3 thoughts on “योगी आदित्यनाथ पर फेक न्यूज़ गैंग की खुली पोल, गलत हुए सारे दावे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *