जय श्री राम
Advertisement

जय श्री राम के नारे सुनकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को इतना गुस्सा आया की सुभाष चंद्र बॉस की 125वीं जयन्ती के शुभ मौके पर उन्होंने श्री राम के नारों के बाद विक्टोरिया मेमोरियल में भाषण देने से इनकार कर दिया.

जय श्री राम

कोलकता के विक्टोरिया मेमोरियल में आज सुभाष चंद्र बॉस की 125 वीं जयंती के शुभ अवसर पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया. जिसमें पश्चिम बंगाल राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ा और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उपस्थित हुए. कार्यक्रम एक दम सामन्य रूप से चल रहा था लेकिन कार्यक्रम ने तब सनसनी पकड़ी जब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने आई.

Advertisement

हुआ ये की TMC पार्टी की मुखिया ममता बनर्जी जैसे ही मंच पर पहुँचती उसी वक्त जनता ज़ोर ज़ोर से ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने शुरू कर देती हैं. जिसके बाद ममता बनर्जी को इतना गुस्सा आया की उन्होंने भाषण देने से इनकार कर दिया. ममता बनर्जी ने अपने भाषण देने से यह कहकर मना किया की ‘ये नॉन पोलिटिकल प्रोग्राम है इसमें अगर पोलिटिक्स शामिल होंगी तो में भाषण नहीं दूंगी’.

ममता बनर्जी श्री राम के नारे लगने के बाद मंच पर सुभाष चंद्र बॉस के बारे में बात करने की बजाए कुछ और कहकर मंच से नीचे उतर गई. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा की ‘मुझे लगता है कि गर्वमेंट के प्रोग्राम की कोई गरिमा होनी चाहिए. यह सरकारी कार्यक्रम है, यह किसी पार्टी का प्रोग्राम नहीं है, यह ऑल पार्टी और पब्लिक का प्रोग्राम है. मैं तो प्रधानमंत्री जी की आभारी हूं, कल्चरल मिनिस्ट्री की आभारी हूं कि आप लोगों ने कोलकाता में प्रोग्राम बनाया. लेकिन किसी को आमंत्रित करके, किसी को निमंत्रित करके उसका अपमान करना आपको शोभा नहीं देता. मैं इस पर विरोध जताते हुए यहां नहीं बोलूंगी’.

जय श्री राम

अंत में जय हिन्द, जय बांग्ला बोलकर ममता बनर्जी मंच पर जाकर अपनी कुर्सी पर बैठ गई. आपको बता दें की इस कार्यक्रम में देश के प्रधानमंत्री भी शामिल हुए थे.

यह भी पढ़ें :-

ब्राजील के राष्ट्रपति ने हनुमानजी की तस्वीर शेयर कर किया भारत का धन्यवाद, कही ये बातें

Advertisement

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *