किसान
Advertisement

नवंबर 2020 में आए नय कृषि कानून के बाद से राजधानी दिल्ली में अभी भी किसानों का प्रदर्शन जारी है, लेकिन किसान नेताओं के आंदोलन की आड़ में होटलों में लाखों के खर्च का सच सामने आया है.

किसान

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार किसान आंदोलन की आड़ में किसानों के नेताओं द्वारा होटलों लाखों के खर्चे का खुलासा हुआ है, इस खुलासे में कई बड़े किसानों के नेताओं के नाम सामने आए हैं. गोरतलब है की सामान्य और भोले भाले किसान तो कड़ाके की सर्दी, तेज धुप और झुलसती गर्मी में भी वहीं सडकों पर ही टेंटों और ट्रोलियों में प्रदर्शन कर रहें हैं.

Advertisement

लेकिन जिनके कहने पर वो ये सब कर रहे हैं, वो बड़े किसानों के नेता तो 3 स्टार होटलों में एश कर रहे हैं उनके नाम लाखों का बिल जारी हो रहा है. ये नेता प्रदर्शन स्थल के पास कुंडली के तीन सितारा होटल TDI क्लब रीट्रीट में रुके हुए हैं.

महंगे किसान नेताओं की सूचि में बड़े नाम

नय कृषि कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन की बागडोर कुल 40 किसानों के नेताओं के हाथों में हैं, इन्हीं सब किसानों के नेताओं के एक इशारे पर सभी सामन्य किसान अपने अपने घरों को छोड़ कर यहां लगभग 100 दिनों से धरने पर टिके हुए हैं.

मगर आपको ये जानकर हेरानगी होगी की इनमे से कुछ किसान नेता उन सभी किसानों को धोखे में रख रहे हैं, इस सूचि में भारतीय किसान यूनियन राजेवाल के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल और जम्हूरी किसान सभा के महासचिव कुलवंत सिंह संधू का नाम सामने आ रहा है.

किसान नेताओं के लाखों के खर्चे

भारतीय किसान यूनियन राजेवाल के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल की बात करें तो ये नेता 12 दिसंबर 2020 से लेकर अब तक सिंघु बॉर्डर प्रदर्शनस्थल के पास के ही 3 स्‍टार होटल TDI क्लब रेट्रिट में ठहरे हुए हैं, जहां इनके नाम पर 1 लाख 30 हजार से भी ज्यादा बिल का खुलासा हुआ है.

वहीं दुसरे नेता जम्हूरी किसान सभा के महासचिव कुलवंत सिंह संधू की बात करें तो इसी होटल में 27 दिसंबर से रह रहे हैं, लेकिन इनकी खातिरदारी होटल की ओर से बिलकुल फ्री हैं. बता दें इस होटल के माकिल रविन्द्र तनेजा है, गोरतलब है की रविन्द्र तनेजा पर किसानों को 1500 करोड़ रुपयों का चुना लगाने का आरोप है.

इसे भी पढ़ें:-

फारूक अब्दुल्ला ने भगवान श्री राम की अल्लाह से कर दी बराबरी

Advertisement

By Sachin

2 thoughts on “किसान नेताओं ने होटलों में लाखों का किया खर्चा, जानिए पूरी रिपोर्ट”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *