माउंट एवरेस्ट
Advertisement

माउंट एवरेस्ट को विश्व की सबसे उंची पर्वत चोटी की मान्यता प्राप्त है, किंतु क्या आप जानते की इस चोटी की असली पहचान माउंट सिकदर है.

माउंट एवरेस्ट

भारत का गौरव हिमालय पर्वत माला में स्थित विश्व की सबसे उंची चोटी ‘माउंट एवरेस्ट’ की कुल ऊंचाई लगभग 29,031.7 फीट हैं. इस चोटी को वर्तमान में ब्रिटिश भूगोलवेत्ता जोर्ज एवरेस्ट के नाम से जाना जाता है लेकिन यह अधुरा सत्य है.

Advertisement

आपको बता दें की एक वास्तविक रहस्य से पूरी दुनिया अब तक अनजान है, दरअसल भारतीय गणितज्ञ ‘राधानाथ सिकदर’ ने एवरेस्ट की सम्पूर्ण ऊंचाई को सबसे पहले नापा था. अंग्रेजों ने अपने अधिकारों का दुरपयोग करते हुए राधानाथ सिकदर के अधिकार का सम्मान अपने भूगोलवेत्ता(geographer) जोर्ज एवरेस्ट के नाम कर दिया.

राधानाथ सिकदर का परिचय

भारतीय महान गणितज्ञ राधानाथ सिकदर का जन्म अक्टूबर 1813 में हुआ था और उनकी मृत्यु 17 मई 1870 में हुई. उन्होंने अपने जीवन में भारत के महान गणितज्ञ की सिद्धि प्राप्त की है.

राधानाथ सिकदर ने ही सबसे पहले विश्व की सबसे उंची चोटी को नापा था, उन्होंने सन 1852 में माउंट एवरेस्ट की सम्पूर्ण ऊंचाई की गणना की थी. लेकिन अंग्रेजों ने इनका श्रय इन्हें नहीं दिया.

माउंट एवरेस्ट का माउंट सिकदर होना चाहिए

भारत देश ने कई बार अपने गौरव को अपनी आँखों के सामने विदेशियों द्वारा कुचलते हुए देखा है, जिसमे से एक नाम है राधानाथ सिकदर का भी है. सिकदर ने सबसे पहले जब दुनिया की सबसे उंची चोटी को नापा था तब अंग्रेजों ने इनके श्रय का शोषण कर इस चोटी का नाम अपने भूगोलवेत्ता जोर्ज एवरेस्ट के नाम पर माउंट एवरेस्ट रख दिया.

मगर अब भारत को उससे छीना हुआ सम्मान वापस मिलना चाहिए, इसलिए कुछ संस्थाओं ने अपने स्तर पर मौहीम भी जारी की है. माउंट एवरेस्ट का नाम बदलकर माउंट सिकदर करके उसे उसका वास्तवित सम्मान देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें:-

अद्भुत विचारपति स्वामी विवेकानंद जयंती आज, युवा प्रेरणा हेतु स्वामी जी के 6 सफलता सूत्र

Advertisement

By Sachin

One thought on “माउंट एवरेस्ट नहीं बल्कि सिकदर है विश्व की सबसे उंची चोटी की पहचान”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *