किसानों का धरना खत्म
Advertisement

किसानों का धरना प्रदर्शन पिछले दो महीनों से चल रहा था. लेकिन आज ट्रैक्टर परेड के कुछ नॉएडा-दिल्ली बॉर्डर को किसानों ने खाली कर धरना खत्म किया हैं.

किसानों का धरना खत्म

भारत के 72वें गणतन्त्र दिवस पर हुई सबसे निंदनीय घटना के बाद कुछ किसानी संगठनों ने आन्दोलन को खत्म करने का फैसला लिया हैं और कुछ किसानी संगठन इसकी निंदा कर रहे हैं. आपको बता दें की आज दिल्ली के लाल किले पर लहरा रहे तिरंगे का आंदोलनकारी किसानों ने अपमान किया. जहां तिरंगे को किसानों ने पहले तो नीचे उतरा, फिर उसकी जगह पर अपना ध्वज लहरा दिया. देश के आजाद होने के बाद यह पहली बार हुआ है की किसी ने भारत के तिरंगे ध्वज की जगह पर अपने संगठन का ध्वज लहराया हो. इस घटना की पूरा देश निंदा कर रहा हैं.

Advertisement

इस घटना के बाद नॉएडा दिल्ली बॉर्डर पर धरना दे रहे किसानों ने धरना खत्म करने का फैसला लिया. दिल्ली पुलिस के आवाहन के बाद किसानों ने यह फैसला लिया. बताते चलें की दिल्ली पुलिस ने किसानों पर गुंडा एक्ट लगा दिया था. जिसके बाद किसानों ने मांग की हम धरने से हट तो जाएंगे लेकिन हमारे उपर लगा ये गुंडा एक्ट हट जाना चाहिए. जिसके बाद दिल्ली पुलिस प्रशासन ने किसानों की मांग को स्वीकार कर मान लिया. तब जाकर किसानों ने धरना खत्म किया.

संयुक्त किसान मोर्चा ने की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा की निंदा

संयुक्त किसान मोर्चा ने आज हुई ट्रैक्टर परेड या रैली की निंदा की हैं. परेड में शामिल ट्रैक्टरों ने आज दिल्ली की सडकों पर ऐसा तांडव मचाया की जिसकी पूरा देश निंदा कर साथ ही साथ किसानों के संगठनों को भी इसकी निंदा करनी पड़ रही हैं. संयुक्त किसान मोर्चा ने बयान जरी कर कहा की ‘आज की किसान गणतंत्र दिवस परेड में अभूतपूर्व भागीदारी के लिए हम किसानों को धन्यवाद देते हैं. हम आज की कुछ अवांछनीय और अस्वीकार्य घटनाओं की भी निंदा करते हैं, उनसे असंबद्धता करते हैं, खेद जताते हैं’.

आपको बता दें की किसानों को लाल किले से हटाने के लिए अतिरिक्त फ़ोर्स को बुलाया गया हैं. किसानों को लालकिले से बाहर निकलने के बाद किले के दरवाजों को बंद करने के आदेश दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें :-

इन 37 शर्तों के साथ दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड को दी थी अनुमति, जिन शर्तों का आज पालन नहीं हुआ

Advertisement

By Sachin

3 thoughts on “नॉएडा-दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का धरना खत्म, ट्रैक्टर परेड की हुई निंदा”
  1. इन्हें किसान मत कहो ये विदेशी टुकड़ों पर पलने वाले देशद्रोही हैं सरकार को गोलियां चलाने का आदेश दे देना चाहिए और जितनी रियायतें अभी तक दी गई हैं सबको वापस ले लेना चाहिए — किसानों से संबंधित तीनों क़ानूनों को सख्ती से लागू करना चाहिए — भारत के चुनाव आयोग को कम्युनिस्ट पार्टियों को भारत में बैंड कर देना चाहिए : —

    https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=3671960772897492&id=370626476364288

    इस वीडियो  में स्पष्ट है तिरंगे का अपमान हुआ है —-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *