Advertisement

जम्मू और कश्मीर में चल रहे वेरिफिकेशन चल रहा है और अब जांच में नया खुलासा हुआ है, दरअसल रोहिंग्या लोगों को पाकिस्तान और UAE से फंड मिलने की खबर सामने आई हैं.

रोहिंग्या

देश में पिछले काफी लंबे समय से म्यांमार और बंगलादेश के रोहिंग्या मुसलमान घुसपेठ करने की खबरें आए दिन सामने आती रहती हैं, ऐसे में अब प्रसाशन ने इसे रोकने के लिए जम्मू और कश्मीर राज्य में कई दिनों से एक सर्च अभियान चल रहा है.

Advertisement

इस सर्च अभियान के अंतर्गत बहुत से रोहिंग्याओं को अब तक पकड़े गए हैं और हजारों की तादात में इन संदिग्ध लोगों के दस्तावेज़ों को चेक किया जा रहा है. इनमे से जो भी लोग अवैध तरीके से रह रहे हैं, उनकी पहचान करके निर्धारित होल्डिंग सेंटर में भेजा जा रहा है.

रोहिंग्या लोगों के फंड का खुलासा

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय जांच एजेंसी के म्यांमार और बंगलादेश से आए विदेशीयों को भारत में मिलने वाले फंड्स का खुलासा किया है, दरअसल एजेंसी के अपनी जांच में खुलासा किया की इन सब लोगों को शरण देकर इनकी देख रेख करने वाले एक NGO को पाकिस्तान और UAE से फंड्स आते हैं.

जांच एजेंसी ने अब तक किसी भी NGO नाम स्पष्ट नहीं किया है, सुरक्षा एजेंसियों ने अपने दावे में बताया कि रोहिंग्याओं के लिए विदेशी फंडिंग से वेलफेयर देख रही NGO ने मदरसे और वेलफेयर सेंटर भी बना रखे हैं.

रोहिंग्या लोग हजारों की तादात में मिले

भारत में हजारों की संख्या में विदेशी रोहिंग्या लोगों के होने की खबरें लगातार सामने आ रही है, सरकारी आंकड़ों के अनुसार रोहिंग्या मुसलमानों और बांग्लादेशी नागरिकों सहित 13,700 से ज्यादा विदेशी नागरिक जम्मू और साम्बा जिलों में बसे होने की जानकारी प्राप्त हुई हैं.

गोरतलब है की आंकड़ों में मालुम होता है की 2008 से 2016 के बीच उनकी जनसंख्या में 6,000 से ज्यादा की वृद्धि हुई है, ये सभी रोहिंग्या लोग म्यांमार के बांग्ला बोलने वाले अल्पसंख्यक मुसलमान हैं.

इसे भी पढ़ें:-

मदन मित्रा का विवादित बयान, नंदीग्राम वाली घटना के पीछे निक्कर पहनकर ट्रेनिंग लेने वाले

Advertisement

By Sachin

One thought on “रोहिंग्या लोगों को पाकिस्तान और UAE से मिलता फंड, जांच में मिले सबूत”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *