अल-अक्सा मस्जिद

इजरायल और हमास के बिच चल रहे विवाद की असली वजह अल-अक्सा मस्जिद है, यहां टेंपल माउंट पर ही यहूदियों का सेकेंड टेंपल हुआ करता था.

इस समय दुनिया भर में कोरोना के बाद यदि कोई विषय सर्वाधिक चर्चा में है, तो वो है इजरायल और फिलिस्तीन विवाद. बताया जा रहा है की इजरायल की सेना और हमास के आतंकियों के बिच चल रहे संघर्ष की वजह यरुशलम में स्थित अल अक्सा मस्जिद है. यरुशलम यहूदी और इस्लाम दोनों धर्मों का पवित्र स्थल माना जाता है और यही दोनो के बीच विवाद की असली जड़ भी है.

येरुशलम के पुराने शहर में यहूदियों का सबसे पवित्र स्थान टेंपल माउंट है, टेंपल माउंट कॉम्प्लेक्स में ही अल-अक्सा मस्जिद है जो इस्लाम का तीसरा सबसे पवित्र स्थल है और इसके सामने ही एक इस्लामी श्राइन है जिसे ‘डोम ऑफ द रॉक’ कहते हैं जिसके गुंबद पर सोना भी मढ़वाया गया है. कॉम्प्लेक्स की वेस्टर्न वाल में यहूदियों को पूजा करने की अनुमति है.

ऑपइंडिया की एक रिपोर्ट् के अनुसार हैरान करने वाली बात यह है की जिस स्थान पर आज ‘अल-अक्सा मस्जिद’ और ‘डोम ऑफ द रॉक’ स्थित हैं, उसी जगह टेंपल माउंट पर पहले एक यहूदी मंदिर था, यह यहूदियों का पवित्र स्थल था, जिसे दूसरा मंदिर भी कहा जाता है, उस मंदिर को यहूदी विद्रोह की सजा के रूप में 70 ईस्वी में रोमन साम्राज्य ने नष्ट कर दिया था, सेकेंड टेंपल का निर्माण 516 ईसा पूर्व में कराया गया था.

बताया जा रहा है की यहूदियों के सबसे पवित्र स्थल सेंकेंड टेंपल की नींव का पत्थर वहीं पर स्थित हैं, जहाँ वर्तमान में ‘डोम ऑफ द रॉक’ स्थित है, लेकिन  यहूदियों को इसे देखने की इजाजत नहीं है क्योंकि यह इस्लामिक दरगाह के अंदर स्थित है और टेंपल माउंट में यहूदियों के प्रवेश पर प्रतिबंध के कारण पश्चिमी दीवार यहूदियों का सबसे पवित्र स्थल है, यहाँ पर ये लोग पूजा कर सकते हैं.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

इजरायल ने तेज की जंग की रफ़्तार, तोपों से हुए हमले, 119 लोगों की मौत

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *