किसानों

क्रषि कानून के खिलाफ पिछले कुछ दिनों से चल रहा किसानों द्वारा आंदोलन आज भी जारी रहा. लेकिन आज किसानों को जरुर थोड़ी राहत मिली है.किसानों

आपको बता दें की जब से केन्द्र सरकार ने नया क्रषि कानून लागु किया है तब से किसानों के कुछ वर्ग इस से खुश नहीं है. जो की आज आंदोलन का रूप ले चूका है. लेकिन आज इसने एक नया रूप ले लिया है. हरियाणा से दिल्ली की तरफ़ बढ़ रहे किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने की अनुमति मिल चुकी है.

ये भी पढ़े

फिल्म कुली न.1 की रिलीज डेट आई सामने 

किसानों को दिल्ली में प्रवेश की मिली अनुमति

किसानों के लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के द्वार खोल दिए है. पहले दिल्ली पुलिस की योजना थी की प्रदर्शनकारी किसानों को दिल्ली के अन्दर ना घुसने दिया जाए. कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण दिल्ली पुलिस को इन्हें रोकने की अनुमति भी मिली हुई थी.

लेकिन आज दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता ने खुद इस बात की पुष्टि दी है की प्रदर्शनकारी किसानों को दिल्ली में आने की अनुमति दे दी गई है. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने दिल्ली पुलिस के इस फैसले की तारीफ की है.

हालांकि आपको बताते चले की दिल्ली पुलिस ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारीयों को ही दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी है.

पहले सारे प्रदर्शनकारीयों को गिरफ्तार करने की थी दिल्ली पुलिस की योजना

आपको बता दें की दिल्ली में उनके प्रवेश से अनुमति से पहले दिल्ली पुलिस की कुछ और ही योजना थी प्रदर्शनकारीयों के लिए. प्रदर्शनकारी जब हरियाणा-दिल्ली बार्डर पर उन्हें गिरफ्तार करने की योजना थी दिल्ली पुलिस की, इसके लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार से 9 स्टेडियम को अस्थाई जेल बनाने की अर्जी भी लगाई थी.

लेकिन केजरीवाल की आप सरकार ने दिल्ली पुलिस की इस अर्जी को सिरे से ख़ारिज कर दिया था. यह ही नहीं दिल्ली के ग्रह मंत्री ने उनकी मांग को सही बताते हुए केन्द्र सरकार को ही नसीयत दे दी. दिल्ली के ग्रहमंत्री सतेन्द्र जैन ने कहा की ‘केन्द्र सरकार को किसानों को इस तरह जेल में नहीं डालना चाहिए, यह समस्या का हल नहीं है. केन्द्र को किसानों की बात मान लेनी चाहिए’.

By Sachin

2 thoughts on “किसानों के लिए खुले दिल्ली के द्वार, क्रषि मंत्रालय बातचीत के लिए तैयार”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *