प्रशासक समिति

प्रशासक समिति (Prashasak Samiti) ने वक्फ बोर्ड के अवैध कब्जों के विरोध में ट्विटर पर ट्रेंड चल रहे हैं, कल 25 सितम्बर 2022 को ट्विटर पर ट्रेंड चलाया गया #DissolveWaqfBoard जिसका उद्देश्य था सरकार और प्रशासन से असीमित अधिकारों वाले वक्फ बोर्ड को भंग करवाने की मांग करना।

ट्रेंड में प्रशासक समिति (रजि. एकात्मीता सोशल वेलफेयर सोसाइटी) की टीम और अन्य राष्ट्रवादी सनातनियों ने वक्फ बोर्ड का जोरदार विरोध करते हुए बड़ा ट्रेंड किया जिसके लगभग 1 लाख 70 हजार ट्वीट हुए जिसकी रिच लगभग 762 मिलियन (76 करोड़) रही। इसमें कई दिग्गजों और नामी लोगों ने भी साथ दिया है।

प्रशासक समिति के अनुशार ट्रेंड का उद्देश्य कोई राजनीतिक या किसी समुदाय का विरोध करना नहीं अपितु ऐसे कानून का विरोध करना था जो किसी संस्था को खुली लूट का अधिकार देता है, जिसका ताजा उदाहरण तमिलनाडु में एक हिंदू बहुल्य गांव पर वक्फ बोर्ड का कब्जा करने वाला मामला है।

समिति का मानना है की ये act हिंदुओं और भारत के अस्तित्व के लिए खतरा बनता जा रहा है जिस तरह वक्फ की संपत्ति बढ़ती जा रही है जल्द ही वक्फ पूरे भारत पर अपना दावा ठोक देगा और इन्हें रोका जाएगा तो संभवत वैसा ही करेंगे जैसा PFI पर हो रही कार्यवाही के बाद हो रहा है (पुणे में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगते हैं)।

प्रशासक समिति ने उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ जी के वक्फ के सर्वे वाले निर्णय का भी स्वागत किया और पूरे देश में ऐसा ही किया जाय इसकी प्रशासन से मांग की है।

प्रशासक समिति और अन्य राष्ट्रवादियों द्वारा चलाया गया ट्रेंड सफल रहा और करोड़ों लोगों तक बात पहुंची , सरकार और प्रशासन तक भी आवाज पहुंची होगी और आगे उचित कार्यवाही भी होगी।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

प्रशासक समिति की ‘सर तन से जुदा’ के खिलाफ ललकार, लाखों लोगों ने दिया साथ

%d bloggers like this: