कंडोम

दिल्ली मेट्रो में ‘कंडोम’ के विज्ञापन से ट्रेवल कर यात्रियों ने प्रशासन पर आरोप लगाया है, वहीं कुछ लोगों ने तो सीएम केजरीवाल तक से सवाल पूछा।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक दिल्ली मेट्रो में ‘मैन फोर्स’ जैसी नामी कंपनी के ‘कंडोम’ के विज्ञापन वाले पोस्टर लगने बात सामने आई है, जिसको लेकर कई यात्रियों ने भी आपत्ति जताई है। बताया जा रहा है कि मेट्रो में हर उम्र या वर्ग के लोग ट्रेवल करते हैं, ऐसे में इस प्रकार के विज्ञापन के लोगों को आपत्ति होना एक साधारण बात जरूर लगती है। लेकिन, ये एक गंभीर विषय भी है। देखें पूरा वीडियो:-

सूचना मिलने के बाद न्यूज कप की टीम ने दिल्ली मेट्रो का दौरा किया, ओर पाया कि वास्तव में पूरी मेट्रो में जहां जगह खाली दिखी वहीं पर इस तरह के कंडोम के पोस्टर देखने को मिले। मेट्रो में सुबह से शाम तक हजारों से भी ज्यादा लोगों का आवागमन होता है। इसी बीच न्यूज कप के पत्रकार ने कुछ लोगों इसके बारे में बात की तो लोगों ने इसको लेकर दिल्ली के सीएम केजरीवाल को जिम्मेदार ठहराया।

अपनी पहचान को गोपनीय रहने की मांग के साथ एक वरिष्ठ यात्री ने हमारे पत्रकार से कहा, ये सब अश्लील हैं और इसे सार्वजनिक स्थानों पर चिपकाने का क्या औचित्य बनता है। इस मामले में दिल्ली सरकार और दिल्ली मेट्रो प्रशासन को जिम्मेदारी उठानी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के पोस्टर बच्चे भी देखते हैं, उनके दिमाग पर ये देखकर क्या असर पड़ेगा?

वहीं जब इन पोस्टर को लेकर एक युवक से सवाल किया गया तो उसके बताया कि शायद दिल्ली या NCR के सभी नौजवानों इसको लेकर प्रशासन को जागरूक करने की जरूरत नहीं है, वे इसके बारे में पहले से ही सबकुछ जानते होंगे। लेकिन, इसके बाद भी इस तरह के पोस्टर मेट्रो जैसी यातायात सेवाओं में चिपकाना बेहद ही वाहियात और बेकार है।

मेट्रो में सफर कर रही एक बुजुर्ग महिला ने न्यूज कप के पत्रकार से कहा कि सीएम केजरीवाल और दिल्ली मेट्रो प्रशासन को इसके बारे में संज्ञान लेना चाहिए और इसे तत्काल प्रभाव से हटवाना भी चाहिए। क्योंकि, भारतीय समाज में धीरे-धीरे पश्चिमी सभ्यता का कब्जा होता जा रहा है, ऐसे में इस तरह के प्रॉडक्ट्स का विज्ञापन सार्वजनिक स्थानों में चिपकाने से आप प्राचीन सांस्कृतिक मान्यताओं को खोखला कर रहे हैं।

हर दिन करते हैं लाखों यात्री सफर

गौरतलब है कि दिल्ली की मेट्रो में प्रतिदिन लाखों लोग यात्रा करते हैं। जिसमें कामकाज करने वाले व्यक्ति, अपने दोस्त या रिश्तेदारों से मिलने जा रहे लोग और स्कूल जाने वाले बच्चे तक भी शामिल होते हैं। यह कुल 8 मार्गों में बँटी हुई हैं और इन्हीं तमाम मार्गों के कारण ही इसका जाल लगभग पूरी दिल्ली सहित NCR (नोएडा, गुरुग्राम और फरीदाबाद) के बड़े हिस्से तक फैला हुआ है।

इन 8 मार्गों को रंगों के हिसाब से नाम किया गया है। जिन्हें रेड लाइक, ब्लू लाइन (2 मार्ग), येलो लाइन, ग्रीन लाइन (2 मार्ग), पिंक लाइन, ऑरेंज लाइन और वायलेट लाइन के तौर पर भी जाना जाता है। बता दें कि तमाम मेट्रो ट्रेनें बिजली से पटरियों पर दौड़ती हैं और अधिकतर 15 मिनट के अंतराल पर हर मेट्रो स्टेशन पर मेट्रो पहुंची है। बताया जा रहा है इसका समय नित्य सुबह 6 बजे से रात 11 बजे तक का रहता है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

शिवलिंग पर कंडोम और हिंदू देवीदेवताओं को अपमानित करने वाले नेताओं

को जनता ने धुल चटाई

%d bloggers like this: