अखिलेश

पीएम मोदी ने शनिवार को नेशनल पार्क में चीते छोड़े अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा, “अगले जन्म मुझे गैया नहीं चीता कीजो”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से इंपोर्ट कर लाए गए 8 चीतों को छोड़ा। इस मौके पर पीएम मोदी ने चीता मित्रों की नियुक्ति की और उनसे मुलाकात भी की। पीएम मोदी ने चीता मित्रों से कहा कि अगर उनके नाम से उनका कोई रिश्तेदार भी आ जाए तो भी वें उसे यहाँ घुसने न दें। हालाँकि, इसी के साथ चीते पर देश में राजनीति भी गर्मा गई।

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने लम्पी वायरस के बहाने चीता लाए जाने पर पीएम मोदी का मजाक उड़ाया। उन्होंने एक इमेज ट्वीट किया, जिसमें लिखा था, “अगले जनम मोहें गाय न कीजो, चीता कीजो।” दरअसल, इस कार्टून के जरिए अखिलेश यादव लम्पी वायरस का जिक्र कर केंद्र सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करने की कोशिशें कर रहे थे। हालाँकि, ट्विटर पर इस कार्टून ने उनका ही पोपट कर दिया।

अखिलेश का इतना कहना भर था कि लोगों ने सोशल मीडिया पर उसे लपक लिया। एक य़ूजर ने उन्हें सैफई लॉयन सफारी की याद दिलाते हुए कहा कि आपको को चीता से ज्यादा प्राब्लम नहीं होना चाहिए था। आप तो वैसे भी पर्यावरण प्रेमी हैं, सैफई में लॉयन सफारी बनवाया है। आलोचना के लिए आलोचना से विरोध की धार कमजोर होती है। इसी तरह से एक अन्य यूजर ने सपा की मौसमी फौज की तरफ इशारा किया।

यूजर ने कहा कि केवल चुनाव के वक्त आपकी मौसमी फौज घरों से बाहर निकलती है। आप गायों के संवर्धन का दायित्व खुद क्यों नहीं ले लेते। उल्लेखनीय है कि जिन 8 चीतों को नामीबिया से लाया गया है उनमें से तीन नर चीते हैं और 5 मादा हैं। चीता मुख्यत: सामाजिक प्राणी होता है और इस कारण से शुरुआती तौर पर इन्हें 6 वर्ग किलोमीटर के ही एक बाड़े में रखा जाएगा, ताकि ये एक दूसरे से संपर्क बना सकें।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

पहले कबूतर छोड़ते थे, आज चीता छोड़ रहे हैं: देखें पीएम मोदी का शानदार वीडियो

%d bloggers like this: