अक्षय कुमार ने अयोध्या में बनने जा रहे भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान देकर कहा “जय सिया राम”.

अक्षय कुमार

श्री राम जन्म भूमि पर बनने जा रहे भगवान श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण कार्य आरंभ हो चूका है और वर्ष 2023 तक निर्माण कार्य सम्पन्न भी हो जाएगा. 14 जनवरी से मंदिर के निर्माण के लिए धन संग्रह के लिए जन संपर्क अभियान आरंभ किया गया.

इस जन संपर्क अभियान की शुरुआत देश के माननीय राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने की है, उन्होंने ने 5 लाख एक सौ रुपय का सहयोग करके अभियान का शुभारम्भ कर दिया. इस अभियान के अंतर्गत सभी देश वासियों के घर – घर जाकर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए उनकी क्षमता और इच्छा अनुसार योगदान देने की अपील की जाएगी.

अक्षय कुमार ने दिया अपना योगदान

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने अपने अंदाज में राम मंदिर के लिए योगदान देने की जानकारी सोशल मीडिया के जरिए अपने सभी प्रसंशको को दी है. उन्होंने रविवार को अपने व्यक्तिगत ट्विटर अकाउंट पर अपना एक वीडियो साझा किया.

इस वीडियो में अक्षय कुमार हाथ जोड़कर लोगों से अपील करते हुए कैप्शन लिखते हैं की “बहुत खुशी की बात है कि अयोध्या में हमारे श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण शुरू हो चूका है…अब योगदान की बारी हमारी है l मैंने शुरुआत कर दी है, उम्मीद है आप भी साथ जुड़ेंगे l जय सियाराम”

गिलहरी के उदाहरण देकर की अपील

अपने इस वीडियो में अक्षय कुमार एक गिलहरी का उदाहरण देते हुए बोलते हैं “जब एक तरफ वानरों की सेना थी और दूसरी तरफ थी लंका और दोनों के बीच में महासमंदर. अब वानर सेना बड़े-बड़े पत्‍थर उठाकर समंदर में डाल रही थी, राम सेतु का निर्माण कर सीता मैया को वापस जो लाना था. प्रभु श्रीराम किनारे पर खड़े सबकुछ देख रहे थे, तभी उनकी नजर पड़ी एक गिलहरी पर. गिलहरी जो थी वो पानी पर जाती फिर किनारे पर आती और रेत में लोट जाती थी फिर राम सेतु के पत्‍थरों की ओर फिर भागती फिर से पानी में जाती फिर रेत में फिर पत्‍थरों पर. रामजी को आश्‍चर्य हुआ कि यह हो क्‍या रहा है. वह गिलहरी के पास गए और पूछा- तुम कर क्या रही हो? गिलहरी ने जवाब दिया- मैं अपने शरीर को गीला करती हूं, उस पर रेत लपेट देती हूं और पत्‍थरों के बीच की जो दरारें हैं और उसको भरती हूं. राम सेतु के निर्माण में मैं भी अपना छोटा सा योगदान दे रही हूं.

आगे अक्षय कुमार इसी का उदाहरण देते हुए लोगों से अपील करते हैं की अब हमें भी अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार ही राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान देने का समय आ गया है ताकि आने वाली पीढ़ी को भी एक संदेश पहुंचे.

 

इसे भी पढ़े:-

तांडव वेब सीरिज में हुआ हिंदू देवी-देवताओं का अपमान, भड़क उठे लोग

Leave a Reply

%d bloggers like this: