अर्नब गोस्वामी

रिपब्लिक नेटवर्क ने संपादक अर्नब गोस्वामी ने अपने शो पर हिंदुत्व की अलसी परिभाषा बताते हुए सेकुलर पाखंडियों और लिबरलों को जमकर धोया.

वर्तमान में हिंदुत्व और हिंदू संगठनों का मजाक बनाना या फिर उन्हें बदनाम करना एक प्रकार का फेशन बन चूका है, जिसे हिंदुफोबिया के नाम से कहा जाता है. इसी हिंदुफोबिया के खिलाफ़ रिपब्लिक नेटवर्क ने संपादक अर्नब गोस्वामी ने आवाज उठाई है, उन्होंने अपने शो में सेकुलर पाखंडियों और लिबरलों को जबर्दस्त धोया और साथ ही साथ उन्हें ये भी बताया की हिंदुत्व का असली मतलब क्या होता है. उन्होंने इस शो में आरएसएस की भी खूब तारीफें भी करी.

शो में अर्नब गोस्वामी ने अंतरराष्ट्रीय वामपंथी, भारत के विरोधियों और देश के प्रतिष्ठित बुद्धिजीवियों की साजिश को बेनकाब किया. इस दौरान उन्होंने कहा की “ये लोग हिंदुत्व आंदोलन को बदनाम करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं”. उन्होंने हिंदुत्व समूहों द्वारा किए गए मानवीय और सामाजिक सेवा कार्यों की एक सूची तैयार की ताकि यह स्पष्ट किया जा सके कि हिंदुत्व आंदोलन के शब्द और उद्देश्य वास्तव में क्या हासिल करना चाहते हैं.

उन्होंने शो में कहा की “पंजाब में आतंकवादियों से देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले आरएसएस के 21 स्वयंसेवक और पवित्र सिख धर्मस्थलों की रक्षा करने वाला आरएसएस ही असली हिंदुत्व है”. अर्नब ने आगे कहा की “जब आरएसएस और 11 अन्य संगठनों ने महाराष्ट्र में कोविड-19 के दौरान राहत कार्य किया और वही आरएसएस अब देश के हर हिस्से में एक मॉडल स्कूल बनाना चाहता है, यही असली हिंदुत्व है”. RSS को लेकर उन्होंने दावा किया की “आरएसएस जैसे हिंदू संगठनों द्वारा देश भर में 118 कोविड -19 केंद्रों की स्थापना, 287 आइसोलेशन सेंटर और कोविड-19 महामारी के दौरान 4,000 से अधिक प्लाज्मा डोनेशन सेंटर द्वारा किए गए”.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

विश्व हिंदू परिषद के विरोध के बाद मस्जिद-मदरसों के इमामों के कोविड भत्ते पर रोक

Leave a Reply

%d bloggers like this: