असम CM

भारतीय जनता पार्टी के असम CM हेमंत बिस्वा सरमा ने पेगासस रिपोर्ट पर वामपंथी मीडिया को जवाब देते हुए कहा “भारत में बैन हो एमनेस्टी इंटरनेशनल”.

समाचार संस्था ANI की रिपोर्ट के मुताबिक असम CM हेमंत बिस्वा सरमा ने मंगलवार 20 जुलाई, 2021 को बयान जारी कर कहा की “कुछ मीडिया आउटलेट्स ने कहा है कि कुछ लोगों को चिन्हित करके उनकी जासूसी की जा रही है, लेकिन वह इसकी पुष्टि नहीं कर सकते कि क्या उनकी गोपनीयता से कोई समझौता किया गया था. यह कैसी पत्रकारिता है? एमनेस्टी इंटरनेशनल और कुछ अन्य अंतरराष्ट्रीय समूह भारतीय लोकतंत्र और मोदी सरकार को बदनाम करने की कोशिश में क्यों कर रहे हैं?”

मुख्य मंत्री सरमा ने कहा की “एमनेस्टी इंटरनेशनल का भारतीय लोकतंत्र को बदनाम करने और यहां की सरकार के खिलाफ साजिश रचने का लंबा इतिहास रहा है. मैं इस साजिश की कड़ी निंदा करता हूँ और मोदी सरकार से ऐसे संगठनों की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग करता हूँ, जो हमारे देश को बदनाम करने और नुकसान पहुंचाने पर अमादा हैं”. ये बात उन्होंने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडिल से एक वीडियो ट्विट करके साझा की हैं.

पेगासस रिपोर्ट पर उन्होंने कहा की “मैं भारत सरकार से देश में एमनेस्टी इंटरनेशनल के कामकाज पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध करता हूँ. मुझे लगता है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल के खिलाफ कोंग्रेस पार्टी को भी केंद्र सरकार से हाथ मिलाना चाहिए. वे हमारे देश को हर समय इस तरह से बदनाम नहीं कर सकते हैं”. भारत सरकार ने भी इस को गलत बताते हुए कहा की “जो कहानी बनाई जा रही है, वो न सिर्फ तथ्यों से दूर है बल्कि एक पूर्व – कल्पित निष्कर्षों पर भी आधारित है. ऐसा लगता है कि जैसे ये जांचकर्ता, अभियोजक और जूरी – इन तीनों का किरदार अदा करना चाहते हैं”.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

‘उड़ता पंजाब’ के जैसे ये राज्य भी ‘उड़ता असम’ बनने जा रहा था: CM सरमा

Leave a Reply

%d bloggers like this: