बजरंग दल

सेंटर यूनिवर्सिटी ऑफ केरल के असिस्टेंट प्रोफेसर गिल्बर्ट सेबेस्टियन के क्लास लेक्चर का ऑडियो वायरल हो रहा है,बजरंग दल और वीएचपी को कह अपशब्द.

बजरंग दल और वीएचपी RSS के उग्रवादी हिस्से बताया

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रोफेसर गिल्बर्ट सेबेस्टियन के क्लास लेक्चर का ऑडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह बजरंग दल और वीएचपी को RSS का उग्रवादी हिस्सा बता रहे हैं. बता दें की प्रोफेसर गिल्बर्ट सेबेस्टियन विश्वविद्यालय के शिक्षक संघ कासरगोड के सचिव हैं और वह इंटरनेशनल रिलेशन्स एंड पॉलिटिक्स विभाग में पढ़ाने वाले सेबेस्टियन JNU से पोस्ट डाक्टरल फेलो भी हैं.

प्रोफेसर गिल्बर्ट सेबेस्टियन ने अपने फासीवाद और नाजीवाद पर एक लेक्चर के दौरान हिन्दू धर्म, स्वस्तिक, हिन्दुओं, राष्ट्र स्वयं सेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी और हिन्दू संगठनों पर आपत्ति जनक टिप्पणीयां कर रहे हैं. इसमें वह दुनिया भर में दक्षिणपंथी सरकारों के उदय को दक्षिण पंथ के पुनरुत्थान बता रहे हैं.

आपत्ति जनक शब्दों का प्रयोग करते हुए गिल्बर्ट ने इटली में ब्लैक शर्ट्स और जर्मनी में ब्राउन शर्ट्स का उदाहरण देकर कहा की “भारत में RSS और VHP को भी उसी कैटेगरी में रखा जा सकता है”. गिल्बर्ट ने आरएसएस को सभी हिंदुओं के संगठनों की माँ बताया, साथ ही बजरंग दल और वीएचपी को उग्रवाद का हिस्सा भी बताया.

बजरंग दल और RSS के अलावा भाजपा पर भी आरोप लगाए

सेंटर यूनिवर्सिटी ऑफ केरल के असिस्टेंट प्रोफेसर गिल्बर्ट सेबेस्टियन ने देश में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी कठोर आरोप लगाए, उन्होंने कहा की “भाजपा राष्ट्र स्वयं सेवक संघ का मुखोटा है और संघ के ही अंडर में बहुत सारे संगठन गंदे काम भी करते हैं”.

उन्होंने भाजपा को इटली में मुसोलोनी और जर्मनी में हिटलर से तुलना करते हुआ कहा की “इंफ्रास्ट्रक्चर का वादा करके सत्ता में आने वाली भाजपा इस विषय में कुछ नहीं कर रही है”. प्रोफेसर ने यह भी कहा की “दक्षिण भारत में लोग शिक्षित हैं, इसीलिए वो भाजपा पर भरोसा नहीं करते, साथ ही जोड़ा कि दलितों और कामकाजी लोगों को भाजपा पर विश्वास नहीं”.

इसे भी जरुर पढिए:-

केरल में ‘लव जिहाद’ पर भड़के योगी आदित्यनाथ, हिंदुओं की भावना के साथ खेला

By Sachin

One thought on “बजरंग दल और वीएचपी RSS के उग्रवादी हिस्से, प्रोफेसर गिल्बर्ट का ओडियो वायरल”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *