अहमदाबाद

इंडिया टुडे के एक लेखक और पत्रकार बिलाल एम जाफ़री ने अपने एक आर्टिकल में बताया है कि अहमदाबाद में पुलिस की मौजूदगी में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने पठान फिल्म के पोस्टर फाड़े और हंगामा किया।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक अपने इस आर्टिकल के टाइटल में बिलाल एम जाफ़री ने लिखा ‘अहमदाबाद में पुलिस की मौजूदगी में दिखा बजरंग दल का ‘बेशर्म रंग’!’ उसके इस आर्टिकल के अनुसार गुजरात के अहमदाबाद में पुलिस और कानून प्रशासन की धज्जियां उड़ाते हुए हिन्दू संगठनों ने पठान फिल्म के पोस्टर फाड़े और हंगामा भी किया। हालाँकि न्यूज कप इस प्रकार के दावों कि पुष्टि नहीं करता।

आपको बताते चलें कि सोशल मीडिया पर अहमदाबाद मॉल में हुए प्रदर्शन का एक वीडियो आज तक के एक दिग्गज पत्रकार शुभांकर मिश्रा द्वारा शेयर किया गया है और उन्होंने ने पुलिस की मौजूदगी का कोई दावा नहीं किया है। दावा तो दूर की बात है इस वीडियो में भी कोई पुलिसकर्मी दूर-दूर तक नजर नहीं आ रहा है। इसके अलावा अभी अहमदाबाद पुलिस की ओर से भी कोई आधिकारिक स्टेटमेंट नहीं आई है कि वहाँ एक भी पुलिसकर्मी घटना के दौरान मौजूद रहा हो।

जाफ़री ने अपने आर्टिकल में छापा “बजरंग दल के कार्यकर्ता मॉल में घुसे और वहां जमकर हंगामा किया। घटना का वीडियो इंटरनेट पर वायरल है। वीडियो देखा जाए तो मिलता है कि कार्यकर्ता जय श्री राम के नारे लगा रहे हैं और पठान की होर्डिंग को जमीन में गिराकर उसपर लातें बरसा रहे हैं। वीडियो में दो पुलिस वाले भी दिख रहे हैं लेकिन जैसा उनका रवैया रहा उसे देखकर लग यही रहा है कि जैसे उपद्रवी बजरंगदल कार्यकर्ताओं को कानून या पुलिस का कोई खौफ ही नहीं था।”

गौरतलब है कि पठान फिल्म को लेकर हिन्दू संगठनों और देश के कई हिस्सों में लोगों की भारी विरोध देखने को मिल रहा है। उत्तर प्रदेश के मठों के कई संतों ने इसको लेकर बड़े-बड़े तीक्ष्ण बयान भी जारी किए हैं। वहीं भारतीय जनता पार्टी के भी कई नेताओं ने भी पठान फिल्म के बेशर्म रंग गाने का विरोध किया है। हालाँकि इन सब बातों के बीच यह भी सच है कि इन सब विरोध हँगामें से पठान को फ्री की पब्लिक एटेन्शन मिल चुकी है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

धर्म सेंसर बोर्ड का हरिद्वार में हुआ गठन, अब नहीं किया जाएगा ‘भगवे’ को

जलील: देखें वीडियो

%d bloggers like this: