भूतेश्वर महादेव मंदिर

खेड़ा देवीदास गांव में स्थापित भूतेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण भूतों ने एक रात में ही कर दिया था, रहस्यों से भरे इस मंदिर के शिवलिंग को बांहों में भरना असंभव.

अधिकतर लोग आगरा को केवल ताजमहल के कारण जानते हैं. लेकिन उन सभी को यह जानकर भी हैरानी होगी की ताजमहल के अलावा भी आगरा में बहुत सी ऐसे दुर्लभ नजारे हैं जिनके बारे में सुनकर ताजमहल भी याद न आए. हम बात कर रहे हैं आगरा की बाह तहसील से बटेश्वर की तरफ जाने वाले रास्ते पर गांव खेड़ा देवीदास में भगवान शिव एक अद्भुत मंदिर स्थापित हैं, इस मंदिर को भूतेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है.

ज़ी न्यूज़ की विशेष रिपोर्ट के मुताबिक स्थानीय लोगों का मानना है की इस मंदिर का निर्माण भूतों के द्वारा किया गया है, इसलिए इसे भूतेश्वर महादेव मंदिर कहा जाता है. यह रहस्यमय मंदिर तकरीब 700 सालों से भी ज्यादा पुराना है. इस मंदिर की सबसे हैरान करने वाली बात यह है की मंदिर में स्थापित शिवलिंग को अगर कोई बाहों में समेटना चाहे तो दोनों हाथ कभी नहीं मिल पाते. शिवलिंग के सामने नंदी महाराज विराजमान हैं. बताया जाता है की एक रोज जब लोगों ने इस स्थान को बिलकुल रिक्त देखा था, लेकिन अगले दिन जब घरों से बाहर निकले तो उन्होंने रिक्त स्थान पर एक भव्य मंदिर देखा और मंदिर में एक शिवलिंग और उसके सामने नंदी महाराज को भी पाया.

बता दें की इस मंदिर में कोई हथियार लेकर नहीं जा सकता, यदि मंदिर के अंदर कोई हथियार लेकर प्रवेश करता है तो हथियार छूटकर गिर पड़ता है या व्यक्ति स्वयं ही जमीन पर फिसलकर गिर पड़ता है. यहां पर मनौती के लिए लिखित अर्जी लगानी पड़ती है. यानी अपनी मनोकामना कागज पर लिखकर मंदिर में नियत स्थान पर रख दीजिए और आपकी मनोकामना पूरी हो सकती है. लोगों ने यह बताया की निर्माण के बाद जब सुबह मंदिर में लोग गए तो उन्होंने देखा की मंदिर में मूर्तियाँ स्थापित करने के स्थान रिक्त पड़े थे तो उन्होंने यह माना की शायद मूर्तियाँ स्थापित करने से पूर्व ही सुबह हो गई.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

लाटू देवता मंदिर: मणि सहित वास करते हैं नागराज

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *