इस्लामिक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें एक इस्लामिक स्कॉलर ने अभद्रता की सारी हदें पार करते हुए बयान दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बिहार के बिहार शरीफ में इस्लामिक कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर छापेमारी के दौरान उसके सीक्रेट डॉक्यूमेंट्स से खुलासा हुआ था कि 2047 तक भारत को हर हाल में इस्लामी राष्ट्र बनाना है। इसी के बाद से एक्शन में आई एनआईए ने संगठन के खिलाफ ताबड़तोड़ छापेमारी शुरू कर दी।

केंद्रीय एजेंसी के इस एक्शन ने कट्टरपंथियों की नींद हराम कर रखी है। इसका असर अब टीवी डिबेट्स में भी दिख रहा है, जहाँ पीएफआई समर्थक गाली-गलौच कर रहे हैं। एनआईए ने दो कार्रवाइयाँ की हैं। पहले राउंड की कार्रवाई में एनआईए ने 15 राज्यों से 106 पीएफआई एक्टविस्ट को गिरफ्तार किया था। वहीं दूसरे राउंड में 170 लोगों को हिरासत में लिया गया था। जाँच एजेंसी की कार्रवाई ने कट्टरपंथी संगछन की चूलें हिलाकर रख दिया है।

क्या है पूरा मामला

पीएफआई के खिलाफ कार्रवाई को लेकर प्राइम टीवी नाम के एक चैनल पर डिेबेट हो रही थी। इसी दौरान भाजपा के प्रवक्ता शफाअत हुसैन ने आतंकी गतिविधियों में लिप्त पीएफआई को लेकर बयान देते हुए कहा कि आतंकियों का कोई धर्म नहीं होता और ऐसे लोगों से मौत की सजा देनी चाहिए। इन्हें न तो कब्रिस्तानों में जगह मिलनी चाहिए और इनके जनाजे पर फातिया पढ़ने वाले मौलवियों को भी इनसे जुड़ा माना जाना चाहिए। इसी दौरान बात बढ़ने पर हुसैन ने इस्लामिक स्कॉलर आमिर साबरी से पूछ लिया कि वो कहाँ पैदा हुए हैं। इस पर भड़के आमिर साबरी ने कहा, “तुम्हारी गाँ# से”।

यहीं नहीं साबरी ने पीएफआई के खिलाफ एक्शन को साजिश करार देते हुए हुसैव को सबसे बड़ा आतंकी करार दिया। साबरी ने तो यहाँ तक दावा किया कि पीएफआई के खिलाफ किसी भी तरह का सबूत नहीं है। इस पर जैसे ही शफाअत हुसैन ने साबरी की मदरसे की डिग्री पर सवाल कर लिया तो वो भड़क उठे और गाली-गलौच करने लगे।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

भारत को 2047 तक इस्लामिक राष्ट्र बनाने वाली है PFI, देखें सबूत सहित वीडियो

%d bloggers like this: