यति नरसिंहानंद

जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद सरस्वती एक बार फिर से मीडिया की सुर्खियों में आ गए हैं, उन्होंने इस बार मदरसों पर बयान दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बयानों के कारण अक्सर विवादों में रहने वाले डासना देवी मंदिर के महंत और जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद सरस्वती की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है। मामला कुछ यूँ है कि यति नरसिंहानंद ने मदरसों और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को बम से उड़ाने की बात कही है।

उन्होंने दावा किया कि देश के टुकड़े-टुकड़े करने की पटकथा एएमयू में ही लिखी गई थी। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हिंदू संत एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आए थे। इसी दौरान उन्होंने ये बातें कहीं। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को इस्लाम का गढ़ बताते हुए उन्होंने चीन का जिक्र किया। यति नरसिंहानंद के मुताबिक, चीन में मदरसों को बम से उड़ा दिया जाता है।

इसके साथ ही यहाँ इस्लामिक शिक्षा ले रहे छात्रों को डिटेंशन कैंप में डाल दिया जाता है। उनका मानना था कि भारत में भी इसी तरह की प्रणाली को अपनाने की आवश्यकता है, तभी तभी कुरान नाम के वायरस से दिमाग को बचाया जा सकेगा। यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा, “अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) इस्लाम का गढ़ है। यहाँ भारत के विभाजन की नींव रखी गई थी।”

उन्होंने कहा, “मदरसों की तरह एएमयू को भी उड़ा देना चाहिए। इसके छात्रों को डिटेंशन सेंटर कर उनके दिमाग का इलाज किया जाना चाहिए।” हिंदू संत के ने ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर दावा किया कि वो कोई मस्जिद नहीं मंदर है। यति नरसिंहानंद सरस्वती का कहना था कि लंबे समय के बाद अब हिंदू समुदाय जाग गया है औऱ अब कुछ दिनों के भीतर ही ज्ञानवापी भी हमारा होगा।

राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा मजाक

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी 2024 के चुनाव के मद्देनजर सियासी जमीन तलाशने के उद्देश्य से कन्याकुमारी से कश्मीर तक की पैदल भारत जोड़ो यात्रा कर रहे हैं। जबकि, खुद कॉन्ग्रेस शासित राजस्थान में उनकी ही पार्टी में फूट पड़ी हुई है। पायलट और गहलोत गुट दो अलग-अलग खेमे में बंटा हुआ है। ऐसे में कॉन्ग्रेस की इस हालत पर चुटकी लेते हुए यति नपसिंहानंद सरस्वती ने कहा कि राहुल गाँधी की यात्रा एक बड़े मजाक से अधिक कुछ नहीं है। अगर सच में वो भारत को जोड़ना चाहते हैं, तो उन्हें सबसे पहले बांग्लादेश और पाकिस्तान जाने की जरूरत है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

यति नरसिंहानंद महाराज ने मुस्लिम मौलानाओं को ‘शास्त्रार्थ’ का दिया ऑपन चेलेंज: पढ़ें पूरी रिपोर्ट

%d bloggers like this: