ब्राह्मणों

JNU के बाद अब हरियाणा में भी ब्राह्मणों के विरोधी वाले नारे दीवारों पर लिखे मिले हैं, वहीं इसमें खालिस्तानी आतंकी संगठन SFJ का हाथ बताया जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राजधानी दिल्ली में स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के बाद अब हरियाणा में भी जातिसूचक नारे लिखे जाने का मामला सामने आया है। इन नारों के साथ-साथ खालिस्तान का भी समर्थन भी किया गया है। अराजक तत्वों ने देश विरोधी नारों के साथ-साथ ब्राह्मण विरोधी नारे भी लिख कर अराजकता फैलाने की कोशिश की है। इस मामले में सिख फॉर जस्टिस (SJF) के एक नामी आतंकी के खिलाफ मामला दर्ज भी किया गया है।

खबर ये भी सामने आ रही है कि हरियाणा के सिरसा जिले के डबवाली उपमंडल में एक डॉ बीआर अंबेडकर कॉलेज है। बताया जा रहा है कि इस कॉलेज की कुछ बाहरी दीवारों पर तकरीबन 6 जगहों पर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लिखे मिले हैं। इसके साथ ही यह भी लिखा था, ‘ब्राह्मणों पंजाब-हरियाणा छोड़ो’। बता दें सन 1984 के सिख दंगों के लिए ब्राह्मणों को भी जिम्मेदार ठहराया गया था।

आपको बताते चलें कि इस तरह के नारे लिखे होने की जानकारी मिलने के बाद हरियाणा पुलिस मौके पर घटना स्थल पहुँची और इन्हें मिटवाने का काम भी पूरा किया। स्थानीय पुलिस ने सिख फॉर जस्टिस (SFJ) के आतंकी और खालिस्तान के कट्टर समर्थक गुरपतवंत सिंह पन्नू (Gurpatwant Singh Pannu) और कुछ अज्ञात लोगों के विरुद्ध देशद्रोह एवं साजिश रचने का मामला दर्ज भी किया है।

जानकारी देते चलें कि पुलिस का यह भी मानना है कि इस घटना को अज्ञात लोगों द्वारा 6 या 7 दिसंबर 2022 की रात को अंजाम दिया गया। वहीं गुरपतवंत ने एक वीडियो भी जारी किया है, इस वीडियो में दिवार पर लिखे इन नारों को भी दिखाया गया है। वीडियो में पन्नू ने हरियाणा को पंजाब का ही हिस्सा बताकर मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को एक चुनौती दी और मेलबर्न में 29 जनवरी 2023 को वोटिंग की बात भी डाली।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

यासीन मलिक को सजा के बाद बौखलाया खालिस्तानी आतंकी पन्नू,

मुसलमानों से की ये खतरनाक अपील

%d bloggers like this: