प्रशासक समिति

भारत में बहुत से नाजुक मुद्दों पर कोई बोलना नहीं चाहता, लेकिन प्रशासक समिति ने समाज सुरक्षा के लिए ये बिड़ा उठा लिया। जिसका लाखों लोगों ने साथ भी दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार धार्मिक संगठन प्रशासक समिति (रजि. एकात्मता एंड सोशल वेलफेयर सोसाइटी) ने 28 अगस्त 2022 रविवार को माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाईट ट्विटर पर ‘#CriminalizeSTSJ‘ नाम से हैशटैग चलाया था। इस मुहिम को लाखों लोगों का समर्थन भी संगठन को मिला। प्रशासक समिति (Prashasak Samiti) की ओर से इसको लेकर ‘Hindus Fight Back’ का एक कीवर्ड भी ट्रेंड करवाया गया।

आपके बताते चलें कि इस मुहिम में लाखों लोग भागीदार बने तथा ट्विटर पर इस ट्रेंड पर 80000 से भी ज्यादा ट्विट्स व रीट्वीट्स आए। वहीं यह 9वीं पोजीशन पर रेंक भी किया। समिति की ओर से एक आधिकारिक स्टेटमेंट में यह कहा गया कि इस ट्रेंड का उद्देश्य किसी भी प्रकार की हिंसा नहीं, बल्कि हिंदुओं के लिए न्याय की मांग है।

प्रशासक समिति के मार्गदर्शक मंडली के वरिष्ठ सदस्य मनीष जी भारद्वाज ने बताया कि हिंदू-देवी देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले कॉमेडियन पर कोई कार्यवाही नहीं हुई, लेकिन टी राजा सिंह को बेल के बाद भी गिरफ्तार किया गया।

वहीं उन्होंने बताया कि टी राजा सिंह ने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन कॉमेडियन ने तो माता सीता और भगवान राम का नाम लेकर अपमान किया। जिसके खिलाफ तो हिंदू कानूनी मांग कर रहे हैं। दूसरी तरफ बिना नाम लिए बयान देने वाले शख्स को खुलेआम सड़कों पर ‘सर तन से जुदा’ के नारे लग रहे हैं।

गौरतलब है कि जब से विधायक टी राजा सिंह ने पैगम्बर मुहम्मद पर कथित तौर पर विवादित टिप्पणी की है, तब से ही हैदराबाद में उनको लेकर ‘सर-तन से जुदा’ के नारे सुनने को मिले हैं। वहीं उन्हें इस बयान को लेकर कई बार गिरफ्तार भी कर लिया गया है। कई बार इसलिए, क्योंकि पहली गिरफ़्तारी के बाद कोर्ट ने उन्हें रिहा कर दिया था। बाद में प्रशासन ने फिर से उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

सोशल मीडिया पर प्रशासक समिति ने फहराया परचम, लाखों लोगों का

मिला साथ

%d bloggers like this: