चीन ने अपने तेवर बदले, चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा की “भारत चीन का दोस्त है और इन दोनों देशों के बिच चल रहा सीमा विवाद इतिहास की देन है”.

चीन

भारत और चीन के मध्य चल रहे सीमा विवाद के बिच हाल ही दोनों देशों की सेनाओं में एक समझोता हुआ है, दरअसल दोनों सेनाओं में पूर्वी लद्दाख में डिसइंगेजमेंट को लेकर सहमति बनी है. जिसके बाद से भारत को लेकर चीनी सरकार का रवईया बदलने लगा है.

चीन के विदेश मंत्री का बयान

चीनी सरकार के विदेश मंत्री वांग यी ने एक बयान जारी किया है जिसमे उन्होंने कहा की “चीन और भारत को सीमा मुद्दे के हल के लिए एक-दूसरे को नुकसान पहुंचाना और आपस में संदेह करना छोड़ देना चाहिए और द्विपक्षीय सहयोग का विस्तार कर अनुकूल माहौल बनाना चाहिए”.

वांग यी ने चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के वार्षिक सत्र से अलग संवाददाता सम्मेलन के दौरान ये बात कही की “यह जरूरी है कि दोनों पक्ष विवादों का उपयुक्त निपटारा करें और साथ ही सहयोग बढ़ाएं, ताकि मुद्दों के हल के लिए अनुकूल स्थिति बन सके”.

चीन और भारत का सीमा विवाद इतिहास की देन

भारत और चीन सीमा विवाद के बिच चीनी विदेश मंत्री ने अपने बयान के दौरान कहा की “दोनों देश मित्र व साझेदार हैं, लेकिन उन्हें एक दूसरे पर संदेह करना छोड़ देना चाहिए”. उन्होंने पिछले साल भी इस मुद्दे पर कई बड़ी बातें कही थी.

उन्होंने तब कहा था की “यह जरूरी है कि दोनों देश अपने विवादों का निपटारा करें और द्विपक्षीय सहयोग का विस्तार करें और रही सीमा विवाद की बात तो ये इतिहास की देन है, यह चीन-भारत संबंध के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार नहीं है”.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बिच 75 मिनट तक फ़ोन पर बातचीत हुई, जिसके बाद ही चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने ये बयान जारी किया.

इसे भी पढ़ें:-

मुंबई ब्लैक आउट साजिश में चीन के खिलाफ अमेरिका, जानिए पूरी रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: