चीन

80 साल के पूर्व राष्ट्रपति को भरी सभा से बाहर निकाला, चीन के PM की भी कर दी छुट्टी: कैमरे में कैद हुई शी जिनपिंग की ‘तानाशाही’

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शी जिनपिंग (Xi Jinping) सरकार के काल में चीन में सबकुछ ठीक नहीं हैं। चीन में राष्ट्रपति के तौर पर लगातार तीसरी बार सत्ता कब्जाने वाले तानाशाह शी जिनपिंग (Xi Jinping) दुनिया में और भी ताकतवर बनकर उभर चुके हैं। वहीं अब वह अपने प्रतिद्वंदियों को अपने सामने खड़े तक नहीं होने देते। इसी क्रम में एक बैठक के दौरान चीन के पूर्व राष्ट्रपति हू जिंताओ को जबरन बाहर निकाल दिया गया हैं। इसके साथ ही शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने प्रधानमंत्री ली केकियांग को भी पार्टी की लीडरशिप से हटा दिया हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार चीन में कांग्रेस की 20वीं बैठक यानी कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) की बैठक के दौरान चीन के पूर्व राष्ट्रपति रह चुके 80 वर्षीय हू जिंताओ को जबरन मीटिंग से निकाल दिया गया। राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बगल में बैठे हुए। हू जिंताओ को दो सुरक्षाकर्मियों ने कुर्सी से उठाया और मीटिंग हॉल से बाहर ले गए। देखें वीडियो:-

वीडियो में आया चीन के तानाशाह का सच सामने

वीडियो में दिख रहा है कि 79 वर्षीय हू जिंताओ शी जिनपिंग के बाईं ओर बैठे थे और बीजिंग में ग्रेट हॉल ऑफ द पीपल के मुख्य सभागार के मंच से दो लोगों के द्वारा उनको बाहर निकाला जा रहा है। जबरन उठाने से पहले दोनों शख्स हू जिंताओ से कुछ देर बात भी करते हैं और फिर उन्हें पकड़कर बाहर कर दिया जाता है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आखिर माजरा क्या है लेकिन, वीडियो सामने आने के बाद यह तो साफ हो गया है कि चीन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।

शी जिनपिंग ने हटाए अपने रास्ते के रोड़े

वहीं इसी दौरान शी जिनपिंग (Xi Jinping) के कट्टर विरोधी प्रधानमंत्री ली कचीयांग पर एक्शन लेते हुए कांग्रेस पार्टी ने उन्हें सेंट्रल कमिटी से बाहर कर दिया है। इसी तरह से शी जिनपिंग (Xi Jinping) के बाद पार्टी में नंबर दो की हैसियत रखने वाले प्रधानमंत्री ली केकियांग को भी पार्टी के वरिष्ठ पद से हटा दिया गया है। ली केकियांग को शी जिनपिंग (Xi Jinping) का प्रतिद्वंद्वी माना जाता हैं।

अन्य 7 लोगों को भी अपने रास्ते से हटाया

वहीं प्रधानमंत्री ली केकियांग के साथ साथ 7 सदस्यीय सबसे ताकतवर पोलित ब्यूरो स्टैंडिंग कमिटी से जिन तीन अन्य नेताओं को हटाया गया हैं। उनमें से शंघाई पार्टी (shanghai party) के प्रमुख हान झेंग, पार्टी एडवाइजरी काउंसिल के प्रमुख वांग यांग और नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के प्रमुख ली झांशु शामिल हैं।

गौरतलब है कि सात दिनों तक लगातार हुई कांग्रेस की बैठक सब समाप्त हो गई हैं। इसका निष्कर्ष यह निकला जा रहा है कि शी जिनपिंग (Xi Jinping) चीन के राष्ट्रपति के रूप में आजीवन काल तक रहना तय हो गया हैं। अब शी जिनपिंग (Xi Jinping) माओत्से तुंग, माओ जेडॉन्ग के नाम से भी जाने जाते है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

मुंबई ब्लैक आउट साजिश में चीन के खिलाफ अमेरिका, जानिए पूरी रिपोर्ट

%d bloggers like this: