प्रशासक समिति

धार्मिक संगठन प्रशासक समिति (रजि. एकात्मता एंड सोशल वेलफेयर सोसाइटी) ने एक बार फिर से बंगाल पीड़ितों के लिए आवाज उठाई है।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक 15 मई 2022 को पश्चिम बंगाल में पीड़ित लोगों के समर्थन में प्रशासक समिति (Prashasak Samiti) ने एक अभियान चलाया और यह अभियान काफी हद तक सफल भी रहा।

इस अभियान में लाखों भारतीयों ने हिस्सा लिया और ट्विटर पर “#SaveBengalFromMamta” हैशटैग भी चलाया, यह हैशटैग कल के दिन टॉप ट्रैंड तक भी गया था।

गौरतलब है की इस ट्रैंड का उद्देश्य केवल बंगाल में शांति लाना था, ना की किसी दल विशेष का बहिष्कार करना! इस समिति के मार्गदर्शक मंडली के वरिष्ठ सदस्य मनीष जी भारद्वाज ने बताया की बंगाल में चुनाव के बाद से अब तक जो हिंसा हुई है और अभी तक रुक नहीं रही है, बस हमें वही बात सरकार के कानों में डालनी थी। जिससे ये जो गलत चीजें हो रही है इन पर रोक लगाई जा सके।

न्यूज कप से खास बातचीत करते हुए उन्होंने स्पष्ट कहा की इस मुद्दे को उठाने से हमारे किसी राजनीतिक दल से कोई बैर नहीं है। यदि चुनाव के नतीजों के बाद ममता जी सबकुछ सही रखती राज्य में तो कोई आपत्ति नहीं थीं, लेकिन बंगाल में जो-जो घटनाएं हुई वो पूरी दुनिया ने देखि। इस पर कई सारी रिपोर्ट्स भी आई हैं, जैसे NHRC की रिपोर्ट आ गई, कोर्ट ने उसके ऊपर क्या बोला, गृह मंत्रालय ने क्या बोला ये सबको पता है। बंगाल में हुई हिंसा को मनीष जी ने चिंता जनक बताया।

आपको बताते चलें की समिति पिछले कई वर्षों से देश में उठ रहे सामाजिक व धार्मिक मुद्दों पर कार्य कर रही है, इसके साथ-साथ समिति ग्राउन्ड लेवल पर भी सक्रिय रहती है।

अब तक इस समिति से लाखों की संख्या में सदस्य जुड़ चुके हैं, एक वैचारिक गुण और राष्ट्र धर्म को आधार बनाकर कार्य आरंभ करने वाली यह समिति पर धीरे-धीरे भारत के बच्चे-बच्चे के जुबान पर आने वाली है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

ट्विटर पर ट्रेंड किया ‘एक_राष्ट्र_एक_विधान’ हैशटैग, प्रशासक समिति का नाम सबसे आगे

One thought on “प्रशासक समिति ने बंगाल में पीड़ितों के लिए उठाई आवाज, किया ये बड़ा काम”

Comments are closed.

%d bloggers like this: