अरविन्द केजरीवाल

लोकसभा में आज दिल्ली के उपराज्यपाल को और भी ज्यादा शक्तिया देने वाला बिल पास हो गया है जिसके बाद बीजेपी को विपक्ष की तीखी आलोचनाओ का सामना करना पड़ रहा है.दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने इस बिल को लेकर सरकार को घेर लिया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ट्विट करते हुए कहा कि बीजेपी ने दिल्ली की जनता को घोखा दिया है. जीतने वालों से शक्तियां छीनकर हारने वालों को दे दिए.

आपको बता दे कि लोकसभा ने राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन (संशोधन) विधेयक 2021 को सोमवार को मंजूरी प्रदान कर दी जिसमें दिल्ली के उपराज्यपाल (एलजी) की कुछ भूमिकाओं और अधिकारों को परिभाषित किया गया है.

नही घटे है दिल्ली सरकार के अधिकार

वही विधेयक पर चर्चा का जवाब केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा कि लोगों को ये समझना चाहिए कि दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश है, इसलिए इसकी तुलनाअन्य राज्यों से नहीं होना चाहिए. 1991 में दिल्ली को केंद्र शासित प्रदेश कांग्रेस ने बनाया. कांग्रेस ने बालकृष्ण समिति के आधार पर दिल्ली के प्रशासनिक ढांचा बनाया. दिल्ली को केंद्र शासित प्रदेश के साथ-साथ सीमित कार्यकारी शक्तियां दी गई हैं.

अरविन्द केजरीवाल

कांग्रेस विधायक मनीष तिवारी ने कसा तंज

वही कांग्रेस के विधायक ने एक बिल को लेकर भाजपा पर जमकर हमला बोला है मनीष तिवारी ने कहा की अब दिल्ली विधानसभा की प्रोसीडिंग लोकसभा के अनुरूप होंगी.अब जब दिल्ली की विधानसभा अपने अनुरूप का ही नही कर सकती है तो फिर विधानसभा की जरुरत ही क्या है.

सुप्रिया सुले ने भी इस विधेयक को लेकर अपनी राय दी है उन्होंने बिल पर बोलते हुए कहा की दिल्ली की सरकार अगर इतनी ही ख़राब काम कर रही है तो दिल्ली की जनता ने उन्हें लगातार 3 बार मौका क्यों दिया है

दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल की सरकार ने कुछ तो अच्छा काम किया होगा जिसकी वजह से उन्हें लगातार तीन बार दिल्ली की कमान अरविन्द केजरीवाल के हाथो में सौंपी थी.

ये भी पढ़े :-

मौनी रॉय ने कहा “श्रीमद्भागवत गीता स्कूलों में पढ़ानी चाहिए”, अद्भुत रहस्य भी बताए

Leave a Reply

%d bloggers like this: