देव सोमनाथ मंदिर

डूंगरपुर के देव नामक गाँव में स्थित है भगवान शिव का अद्भुत देव सोमनाथ मंदिर, इस विशाल शिवालय का निर्माण केवल एक रात में किया गया था.

भगवान के दिव्य और चमत्कारिक मंदिर भी भारत की पहचान माने जाते हैं, बहुत से ऐसे मंदिर हैं जिनके रहस्यों को आधुनिक विज्ञान भी नहीं सुलझा कसा है. इनमें से ही एक मंदिर का नाम है देव सोमनाथ मंदिर, इस मंदिर अद्भुतता इससे स्पस्ट होती है की इस विशाल और भव्य मंदिर का निर्माण कार्य मात्र एक रात में सम्पन्न हुआ था. इसके अलावा मंदिर की प्रसिद्धि का कारण इसके दोनों शिवलिंग हैं, क्योंकि मंदिर में विराजमान दोनों शिवलिंग स्वयंभू शिवलिंग है.

ऑपइंडिया की विशेष रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के डूंगरपुर के उत्तर-पूर्व में 20 किमी दूर देव नामक गाँव में सोम नदी के किनारे स्थित होने के कारण ही मंदिर का नाम देव सोमनाथ पड़ा. मंदिर में प्राप्त शिलालेखों से यह जानकारी मिलती है कि इस मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्दी के दौरान राजा अमृतपाल के द्वारा कराया गया था. मंदिर में 14वीं शताब्दी के अस्पष्ट शिलालेख भी प्राप्त होते हैं, जिनसे यह संभावना व्यक्त की जाती है कि इस दौरान मंदिर का जीर्णोद्धार हुआ होगा.

बता दें की यह विशाल मंदिर 108 खम्बों पर टिका हुआ है, यह मंदिर योजन आकार में निर्मित हैं और इस मंदिर के 3 प्रवेश द्वार भी हैं. देव सोमनाथ मंदिर में गर्भगृह, अंतराल और सभा मंडप हैं भी स्थापित हैं, इसके अलावा मंदिर की छत पर भी शानदार नक्काशी की गई है. गौरतलब है की 3 मंजिला इस मंदिर को भूकंप से कोई खतरा नहीं है, क्योंकि इसके 108 खम्बों का निर्माण चुने और मिट्टी के गारे द्वारा करवाया गया है. आस – पास लोगों का मानना है की मंदिर के दोनों शिवलिंग स्वयं प्रकट हुए थे.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

चौसठ योगिनी मंदिर: रात के समय मनुष्य तो दूर पशु या पक्षी भी पर नहीं मार सकता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: