JNU

JNU में ब्राह्मणों को लेकर आपत्तिजनक नारे वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने दावा किया है कि ये काम टुकड़े-टुकड़े गैंग का है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय यानि JNU की दिवारों पर जातिसूचक नारे (ब्राह्मणों को लेकर गलत नारे) लिखे जाने के मामले को यूनिवर्सिटी प्रशासन ने भी अब गंभीरता से लिया है। स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज एंड ग्रेविएंस के डीन वाली कमेटी को भी जल्द से जल्द पूछताछ करने और कुलपति को रिपोर्ट जमा करने के लिए कह दिया गया है।

आपको बताते चलें कि गुरुवार (1 दिसंबर 2022) को विश्वविद्यालय परिसर में स्थित इमारतों की दिवारों पर जातिसूचक एवं विवादास्पद नारे लिखे गए थे। इन नारे में लिखा गया था कि ब्राह्मण भारत छोड़ो, खून बहेगा, गो बैक शाखा जैसे आपत्तिजनक नारे JNU के कैंपस की दीवारों पर लिखे मिले थे। भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) की छात्र शाखा ABVP ने इसके मामले को लेकर कैंपस के ही वामपंथी छात्र संगठनों पर गंभीर आरोप लगाया था।

बताया जा रहा है कि अब इस केस में सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल ने DCP साउथ वेस्ट तथा SHO वसंत कुंज को एक शिकायत भी दी है। वहीं जिंदल ने यह भी कहा, “जेएनयू में देश विरोधी, समाज विरोधी कार्यों का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसी विचारधारा, जो देश में अराजकता फैलाना चाहती है, के लोग जेएनयू में बड़े पैमाने पर हैं। जेएनयू में जाति को लेकर जान से मारने की धमकी देने वालो पर सख़्त कारवाही की ज़रूरत है। ये टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य ही हैं।”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

JNU की वीसी ने महादेव को ‘दलित’ बताते हुए कहा ‘कोई भी देवता ब्राह्मण नहीं’ हिंदू महासभा ने दिया

%d bloggers like this: