नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने एक गैर-हिंदू मंत्री के साथ विष्णु पद देवी मंदिर के गर्भगृह तक पहुंच गए, जहां केवल हिंदुओं का प्रवेश वर्जित था।

इस वीडियो को भी पूरा देखें:-

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हिंदू आस्था से खिलावड़ करने का आरोप लगा है। खबर है कि प्रदेश में गया जिले के दौरे के समय नीतीश कुमार विष्णु पद देवी मंदिर में पूजा पाठ करने गए थे। इस मंदिर के बाहर साफ लिख रखा है कि इसमें गैर-हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है। मगर, बावजूद इस नोटिस के नीतीश अपने साथ सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री मोहम्मद इसरायल मंसूरी को लेकर गए। देखें वीडियो:-

आपको बताते चलें कि मंदिर से लौटने के बाद जहाँ बिहार सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री मोहम्मद इसराइल मंसूरी ने मीडिया से बात करते हुए अपनी खुशी जाहिर की और बोले, “मेरा संजोग है, सौभाग्य है कि मुझे सीएम नीतीश कुमार के साथ विष्णु पद मंदिर के गर्भ गृह का दर्शन करने का भी मौका मिला।” वहीं हिंदू यह सुन भड़क गए।

विष्णु पद मंदिर के भीतर जाकर जहाँ मोहम्मद इसरायल फूले नहीं समा रहे हैं। वहीं इस बयान को सुनने के बाद हिंदुओं में गुस्सा है। मंदिर के पंडितों ने भी इस घटना को गलत बताया है। साथ ही बीजेपी ने भी इस मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। बिहार राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के सदस्य हरिभूषण ठाकुर बचौल ने इसे लेकर आक्रोश जताया है।

गौरतलब है कि विष्णुपद मंदिर में मंत्री इसराइल मंसूरी के जाने पर भाजपा भी हमलावर हो गई है। भारतीय जनता पार्टी के विस्फी विधायक और बिहार राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के सदस्य हरिभूषण ठाकुर बचौल ने मंत्री के मंदिर में प्रवेश पर सवाल उठाते हुए कहा कि विधर्मियों ने मंदिर को अपमानित किया। जब मंदिर में लिखा हुआ है गैर हिंदू का प्रवेश वर्जित है, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हिंदूओं की भावना को आहत किया है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

नितीश कुमार के इस फैसले से बिहार में बदलेंगे कोरोना के हालात

%d bloggers like this: