प्रशासक समिति

देश और दुनिया भर में जहां नूपुर शर्मा के बयान को लेकर बवाल खड़ा हो गया, वहीं सोशल मीडिया पर आए दिन हिंदू देवी-देवताओं का मजाक बनता देखा गया है और उन पर कोई बात नहीं करता। लेकिन इस बार प्रशासक समिति ने ये पहल की है।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक धार्मिक संगठन प्रशासक समिति (रजि. एकात्मता एंड सोशल वेलफेयर सोसाइटी) ने बीते रविवार यानि 19 जून 2022 को माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाईट ट्विटर पर #ArrestBlasphemerMdZubair नाम से हैशटैग चलाया था। इसका उद्देश्य किसी भी प्रकार की हिंसा अथवा पत्थराव बिल्कुल भी नहीं था और इसे आप एक तरफ से ऑनलाइन विरोध प्रदर्शन भी कह सकते हैं।

आपको बताते चलें की जहां एक तरफ कुछ दिनों पहले नूपुर के खिलाफ पत्थरबाजी, हिंसा और रेप की धमकियों से प्रदर्शन हो रहे थे, वहीं दूसरी तरफ प्रशासक समिति (Prashasak Samiti) ने शांति और कानून के दायरे में रहकर प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है की इस हैशटैश से बहुत लोग जुड़े और उन्होंने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं भी दी थीं। वहीं यह ट्विटर पर टॉप 3 तक ट्रेंड भी किया था।

बता दें की इस ट्रेंड के विषय में प्रशासक समिति के मार्गदर्शक मंडली के वरिष्ठ सदस्य मनीष जी भारद्वाज ने समय निकालकर खास बातचीत में कुछ बातें स्पष्ट की, उन्होंने बताया की हिंदुओं देवी-देवताओं का सरेआम अपमान करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही को लेकर इस ट्रेंड को शुरू किया गया और जो भी इशनिंदा करता है वो कतेई क्षमा योग्य नहीं है।

मनीष जी भारद्वाज ने इसके पीछे के कारण को स्पष्ट करते हुए बताया की आल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबेर ने कई सारी फैक न्यूज आदि को बढ़ावा दिया है, इसके साथ-साथ ये हिंदू देवी-देवताओं पर भी कई बार आपत्ति जनक टिप्पणी कर चुका है। उन्होंने बताया की जूबेर के मन में हिंदुओं के प्रति घृणा भरी हुई है और इसका प्रमाण भी हमने कई जगहों पर पहले भी देखा है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

प्रशासक समिति ने विदेशी पहचान के खिलाफ उठाई आवाज, कर दिया ये कारनामा

%d bloggers like this: