श्री महाकाल लोक

मंगलवार (11 अक्टूबर 2022) की शाम पीएम मोदी महाकाल नगरी उज्जैन में ‘श्री महाकाल लोक’ का लोकार्पण कर देशवासियों सौगात प्रदान की।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आदि-अनंत भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन में आज शाम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नवनिर्मित नव्य-भव्य श्री महाकाल लोक देश को समर्पित करेंगे। पूरी दुनिया में बसे सनातन धर्मावलंबियों के लिए यह आस्था, श्रद्धा व गौरव का पल होगा। लेकिन, उससे पहले आप इस वीडियो को एक बार देखेंगे तो खुद को महाकाल के दरबार में हाजिर पाएंगे:-

(नोट: यह लेख पूर्णरूप से अपडेट नहीं है, इसमें कुछ बातें लोकार्पण से पूर्व की बताई गई है)

बताया जा रहा है कि लोकार्पण समारोह के लिए उज्जैन में अप्रतिम साज-सज्जा की गई है। केदारनाथ में नवनिर्माण, काशी विश्वनाथ में परिसर के विस्तार व सोमनाथ में नव्य निर्माण के बाद महाकालेश्वर मंदिर चौथा ज्योतिर्लिंग है, जहां कायाकल्प किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार शाम 5.30 बजे उज्जैन पहुंचेंगे। सर्वप्रथम महाकाल मंदिर पहुंचकर ज्योतिर्लिंग की पूजा-अर्चना करेंगे। इसके बाद श्री महाकाल लोक का अवलोकन कर लोकार्पण करेंगे।

वहीं जानकारी यह भी आ रही है कि जिस समय प्रधानमंत्री मोदी नवनिर्मित श्री महाकाल लोक का अवलोकन व लोकार्पण करेंगे, उस समय प्रदोषकाल रहेगा। प्रदोषकाल होने से यह समय सभी दोषों से मुक्त होगा। इस समय शिव नाम मुहूर्त रहेगा। यह समय इसलिए भी चुना गया है, क्योंकि लोकार्पण के समय शुक्र की महादशा होगी तथा शुक्र की कन्या राशि में बुध के साथ युति होगी।

यह मुहूर्त आने वाले कालखंड में Shri Mahakal Lok व उज्जैन में पर्यटन व रोजगार भी बढ़ाएगा। खबर है कि शिवनगरी उज्जयिनी को महोत्सव के लिए सिंहस्थ (कुंभ) मेले जैसा सजाया गया है। महाकाल मंदिर में उजास किया जा रहा है, अन्य मंदिरों में भगवान को नए वस्त्र धारण करवाए गए हैं। मोक्षदायिनी नदी मां शिप्रा स्थित रामघाट सहित अन्य घाटों का रंगरोगन व रोशनी से श्रृंगार किया गया है। जगह-जगह त्रिशूल, डमरू सहित महादेव के अन्य प्रतीक दिखाई दे रहे हैं।

गौरतलब है कि सनातन परंपरा के सभी 13 अखाड़ों में श्री महाकाल लोक के निर्माण व लोकार्पण को लेकर उत्सवी उल्लास है। जूना अखाड़ा, निरंजनी पंचायती अखाड़ा, महानिर्वाणी अखाड़ा सहित सभी अखाड़ों के साधु-संतों, महामंडलेश्वर आदि ने श्री महाकाल लोक को अद्भुत, अकल्पनीय और अलौकिक बताया है। अखाड़ों के स्थानीय आश्रमों में वेदपाठी बटुकों, आचार्यों ने भी लोकार्पण को अपने-अपने अखाड़ों में उत्सव स्वरूप में मनाने की तैयारियां की हैं।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

₹793 करोड़ की लागत, अंदर 500 डिवाइस: वीडियो में करें अद्भुत महाकाल लोक के दर्शन

%d bloggers like this: