झारखंड

झारखंड के एक स्कूल में मुस्लिम छात्रों की संख्या ज्यादा होने के कारण वहाँ हर जुम्मे यानि शुक्रवार को अवकाश घोषित कर दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार झारखंड के जामताड़ा जिले के कुछ सरकारी स्कूलों में रविवार के बजाय शुक्रवार की छुट्टी दिए जाने की खबर है। दावा किया गया है कि स्कूल के नोटिस बोर्ड पर बाकयदा शुक्रवार को जुमे का दिन घोषित कर के अवकाश लिखा गया है। वहीं शिक्षा विभाग द्वारा उन स्कूलों को उर्दू स्कूल बताते हुए ऐसा कदम शिक्षकों की सुविधा को देख कर उठाया जाना बताया गया है। देखें पूरा वीडियो:-

आपको बताते चलें की शुक्रवार की छुट्टी उन स्कूलों में हो रही है, जहाँ मुस्लिम छात्रों की संख्या 70% से अधिक है। दावे के मुताबिक शासन से उन स्कूलों को शुक्रवार को बंद रखने के आदेश नहीं हैं लेकिन मैनेजमेंट कमिटी के दबाव में वहाँ शुक्रवार को छुट्टी होना एक स्थाई चलन बन चुका है। वहीं इस मुद्दे को कई बड़ी मीडिया संस्थानों ने भी कवर किया है।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी ने इस व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने लिखा “पहले गढ़वा में हाथ जोड़ कर प्रार्थना की पद्धति को रोकने की खबर। अब जामताड़ा ज़िले में रविवार के बदले जबरन शुक्रवार को स्कूल बंद कराने के साथ ही सामान्य विद्यालयों पर खुद से उर्दू विद्यालय का बोर्ड लिखवा देना। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, आप झारखंड को किस ओर ले जा रहे हैं?”

गौरतलब है की जिले के शिक्षा विभाग के दावे के मुताबिक कुल 1084 स्कूलों में मात्र 15 उर्दू स्कूलों में शुक्रवार की छुट्टी हो रही है। लेकिन जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को बंद होने वाले स्कूलों की संख्या 100 से भी अधिक है। इन स्कूलों के मुस्लिम बहुल इलाकों में होने के दावे के साथ आस-पास के लोगों द्वारा स्कूल प्रबंधन पर दबाव भी बनाने का दावा किया गया है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

झारखंड के एक स्कूल में बदलवाई प्रार्थना, बच्चों को हाथ जोड़ने से भी रोका: देखें पूरा वीडियो

%d bloggers like this: