ऋषभ शेट्टी

जहां एक ओर बॉलीवुड अभिनेता अजमेर दरगाह पर माथा टेकने जाते हैं, वहीं दूसरी ओर साउथ स्टार ऋषभ शेट्टी खुलकर हिंदू धर्म और हिन्दुत्व की बातें करते नजर आते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कन्नड़ फिल्म निर्देशक ऋषभ शेट्टी की हाल ही में रिलीज हुई फिल्म कन्नड़ फिल्म ‘कांतारा’ (Kantara) को देश भर से प्यार मिल रहा हैं। इस फिल्म को देखने वाले दर्शकों ने मूवी को बेहद प्यार दिया हैं। ‘कांतारा’ (Kantara) एक एक्शन थ्रिलर फिल्म हैं। जो कंबाला, भूत कोला, यक्षगान, दैवरधाने और जमींदार की पारंपरिक संस्कृति को जीवंत करती है।

वहीं कन्नड़ मूवी के अभिनेता से कार्यकर्ता में तब्दील हुए चेतन कुमार ने यह दावा किया है कि भूत कोला’ कर्नाटक के तट के लोगों का प्रचलित आध्यात्मिक पूजा का एक अनुष्ठान हैं। जो हिंदू संस्कृति का हिस्सा नहीं है। उनके इस दावे से विवाद छिड़ गया है। प्राप्त जानकारियों के मुताबिक चेतन कुमार ने यह आपत्तिजनक टिप्पणी ‘कांतारा’ (Kantara) के निर्देशक ऋषभ शेट्टी के उस बयान को लेकर की है। जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘भूत कोला’ हिंदू संस्कृति का हिस्सा है।

देवता हमारी संस्कृति का हिस्सा हैं

‘कांतारा’ (Kantara) फिल्म निर्देशक ऋषभ शेट्टी ने कहा कि वे सभी देवता हमारी संस्कृति और परंपरा का हिस्सा हैं। निसंदेह यह हिंदू संस्कृति और हिंदू रीति-रिवाजों का हिस्सा हैं। क्योंकि मैं एक हिंदू हूँ और मेरी अपने धर्म में आस्था हैं और मैं इसका सम्मान करता हूँ। लेकिन मैं यह नहीं कहूँगा कि दूसरे गलत हैं। हमने जो कहा है वह हिंदू धर्म में मौजूद तथ्यों के आधार पर कहा है। ‘भूत कोला’ वराह रूपम अर्थात विष्णु भगवान हैं। ये लोग हिंदू धर्म को नीचा दिखाने की इतनी कोशिश क्यों करते हैं?”

कांतारा’ (Kantara) राष्ट्रीय लहर बना रही हैं

तमिल चैनल विकटन सिनेमा को दिए गए इंटरव्यू भी सामने आया है जो कि कन्नड़ भाषा में हैं। चेतन अहिंसा के नाम से मशहूर एक्टिविस्ट (activist) चेतन कुमार ने ऋषभ शेट्टी के दावों को झूठा बताया है और उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “मुझे खुशी है कि हमारी कन्नड़ फिल्म ‘कांतारा’ (Kantara) राष्ट्रीय लहर बना रही हैं। निर्देशक ऋषभ शेट्टी का दावा है कि भूत कोला ‘हिंदू संस्कृति’ है। झूठी हमारी पंबाड़ा/नालिक/परावा की बहुजन परंपराएं वैदिक-ब्राह्मणवादी हिंदू धर्म से पहले की हैं।”

लोगों ने विरोध भी जताया और समर्थन भी किया

वहीं इस ट्वीट के बाद लोग चेतन कुमार का समर्थन करते दिखाई दिए तो। वहीं अन्य लोगों ने उनका विरोध जताया हैं। मिर्ची मोहन नामक ट्विटर यूजर ने चेतन कुमार के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि यह ट्वीट ही अदालत की अवमानना है। वहीं एक अन्य नेटीजन ने दावा किया कि वह ‘भूत कोला’ देखकर बड़ा हुआ है और यह हिंदू संस्कृति का एक हिस्सा है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

कांतारा ट्रेलर: हिंदू संस्कृति को बढ़ावा देती है ये फिल्म, हिन्दी में ट्रेलर देखें यहाँ

%d bloggers like this: