लव-जिहाद

लव-जिहाद और जम्मू-कश्मीर में सिख लड़कियों के अपहरण कर जबरन धर्मांतरण और निकाह करने वाले गिरोह के समर्थन में उतरे राजदीप सरदेसाई.

इंडिया टुडे के पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लव-जिहाद के मुद्दे पर एक लेख लिखा है, जिसमें वे लव जिहादियों का पूरी तरह से समर्थन करते दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने लिखा की “प्यार का अपराधीकरण नहीं किया जाना चाहिए” गौरतलब है की ये बात वे लव जिहादियों को नहीं, बल्कि लव जिहाद के विरोध में उतरे लोगों को समझा रहे हैं.

बता दें की इस लेख उन्होंने लिखा “लव-जिहाद शब्द से मुझे क्रोध आता है” मगर उन्हें ये क्रोध लव जिहाद करने वालों पर नहीं आता, बल्कि इसे रोकने का प्रयास करने वालों पर आता है. उनका यह मानना है की “मुस्लिमों के प्रति अत्यधिक घृणा से ये शब्द आया है, इस्लामोफोबिया को सामान्य बताया जा रहा है”. अपनी इस अजीबों गरीब दलील को सही साबित करने के लिए उन्होंने किसी ‘श्रीराम सेना’ और मंगलोर में किसी पब पर हमले की घटना का जिक्र किया है. उन्होंने हिंदू छवि वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता और वर्तमान यूपी CM योगी आदित्यनाथ पर भी गम्भीर आरोप लगाया.

उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा की “उन्होंने CM बनने से पहले ‘हिन्दू युवा वाहिनी’ नाम के ‘कानून हाथ में लेने वाले संगठन’ का नेतृत्व किया है, ये संगठन इंटरफेथ शादियों को निशाना बनाता था”. उन्होंने लिखा की “उत्तर प्रदेश सरकार ने कानून लाकर इंटरफेथ मैरिज को ‘लव जिहाद’ बता दिया है, जबकि सच्चाई ये है कि धोखे से शादी करने वालों और धर्मांतरण कराने वालों के खिलाफ ये कानून आया है”. बकौल राजदीप सरदेसाई ने आगे कहा की “शादीशुदा जोड़े को ये साबित करने की जिम्मेदारी डाल दी गई है कि उन्होंने बिना किसी दबाव के शादी की है”. इन सब के बिच विचार करने वाली बात यह है की नित्य लव जिहाद की घटनाओं केखुलासों के बाद भी इंडिया टुडे जैसी संस्थाएं उन पर पर्दा डाल रही हैं.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

लव जिहाद: जुनेद ने धर्म छिपाकर की शादी, नोएडा में शिकायत दर्ज

Leave a Reply

%d bloggers like this: