हाजिक खान

भारत में ही कुछ लोग ऐसे हैं जो इस देश पर हमला करने वालों की महिमा करते हैं, इसी सूची में अब इस्लामिक स्कॉलर हाजिक खान का नाम भी जुड़ गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 12 मई 2022 यानि गुरुवार को समाचार चैनल ‘आज तक’ के शो ‘हल्ला बोल’ में वाराणसी ज्ञानवापी मुद्दे पर एक बहस हुई। इस बहस में मुस्लिम पक्ष की तरफ से बोलते हुए इस्लामिक स्कॉलर हाजिक खान ने औरंगजेब को महान बताते हुए उसकी शान में कसीदे गढ़े। अब उनके इस बयान का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, आप भी सुनिए हाजिक का औरंगजेब की महिमा वाला बयान:-

आपको बताते चलें की इस दौरान इस्लामिक स्कॉलर हाजिक खान ने कहा “किसी के कहने से इस मुल्क पर 53 साल हुकूमत करने वाला आक्रांता नहीं हो जाता। इतना शासन कोई भाजपा नेता भी नहीं कर सकता। मैं इतिहास का छात्र हूँ इसलिए ये जानकारी रखता हूँ। औरंगजेब ने इतिहास में कोई भी बिल्डिंग भारत में नहीं बनाई। उसके बाप, दादा और परदादा सभी बादशाह थे लेकिन उसने टोपी बुन के और कुरान लिख कर रोटी खाई है।”

खान ने आगे कहा “बाबरी शहीद होने के बाद आपके आज तक चैनल पर ही रिपोर्ट दिखाई गई थी कि औरंगजेब ने 18 -19 मंदिर छोड़े और 20-22 बनवाए। साथ ही उसने इस देश के हिन्दुओं को 126 जमीनें दी थीं। मोदी और योगी जिस मठ में बैठे हुए हैं वो नवाब वाजिद अली शाह की दी गई है।” उन्होंने कहा की ये (भाजपा वाले) संविधान की अवहेलना कर रहे हैं। ये संसद में पारित प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट को भी मानने के लिए तैयार नहीं हैं।

गौरतलब है की इस जवाब में सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने करारा जवाब दिया, भाटिया ने कहा “आज इनका मुगल प्यार जग गया है। औरंगज़ेब ने तो अपने पिता को ही जेल भेज दिया था। आप (हाजिक खान) बच कर रहिएगा कि कहीं आपके साथ ऐसा न हो जाए। आपकी नियति काली है। आज ये हम पर प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट न मानने का आरोप लगा रहे हैं। हमने इस एक्ट को गैर संवैधानिक मानते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।”

गौरव भाटिया ने आगे कहा “लेकिन जिस CAA को संसद ने ही पास किया था उसे आपने नहीं माना। क्या वो पाकिस्तान से आया था या तुर्की से ? आज इनके जैसा एक वर्ग मंदिर-मस्जिद से हट कर शिक्षा की दुहाई देता है लेकिन उसी वर्ग को रोहिंग्या और पर्दा चाहिए। इन्हे बाकी सब कुछ वो चाहिए हो संविधान में नहीं है। क्योंकि जीत हिन्दू पक्ष की हुई है इसलिए ये झटके में हैं।”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

गैवीनाथ धाम में घटी थी अद्भुत घटना, औरंगजेब को सेना सहित भागना पड़ा

%d bloggers like this: