Karni Mata Mandir

बीकानेर के देशनोक में स्थित Karni Mata Mandir एक अनोखा रहस्यमय मंदिर है, जो की तकरीबन 25000 से भी ज्यादा चूहों से भरा रहता है.

अक्सर हमारे घरों में जब कोई चूहा घुस आता है तो हम परेशान होने लगते हैं और उसे भगाते हैं, लेकिन राजस्थान के बीकानेर में एक ऐसा रहस्यमय मंदिर हैं जिसमें चूहों का जूठा प्रसाद खाना श्रद्धालुओं के लिए सौभाग्य माना जाता है. करणी माता मंदिर (Karni Mata Mandir) बीकानेर के देशनोक क्षेत्र में स्थित हैं और मंदिर में अंदाजन 25 हजार से भी अधिक चूहे हैं, जो की मंदिर के आकर्षण और प्रसिद्धि का मुख्य कारण भी बने हुए हैं. माता करनी को दुर्गा माता का अवतार माना जाता हैं.

जी न्यूज़ की एक रिपोर्ट के मुताबिक माता करणी इस मंदिर के चूहों को काबा कहा जाता है और मंदिर में आने वाले श्रद्धालु मंदिर के अंदर पैर घसीटकर चलते हैं ताकि कोई काबा उनके पैर के नीचे न आ जाए क्योंकि ऐसा होना अशुभ माना जाता है. मंदिर में काले रंग के चूहों के साथ ही सफेद रंग के भी चूहे हैं लेकिन इनकी संख्या काफी कम है. ऐसा माना जाता है कि यहां आने वाले जिस श्रद्धालु को सफेद चूहे दिख जाएं तो उसकी हर मनोकामना पूरी होने वाली है. करणी माता मंदिर में नवरात्रि के दौरान अच्छी खासी भीड़ होती है.

वैष्णो देवी मंदिर: माता का कलयुग में होगा भगवान कल्कि से विवाह

बीकानेर नगर से लगभग 30 किलोमीटर की दुरी पर स्थित यह मंदिर जिले का एक बड़ा पर्यटन स्थल भी हैं, यहां देश विदेश से लोग माता के दर्शन करने आते हैं. मंदिर में अधिक चूहे होने के कारण करणी माता को चूहों वाली माता भी कहा जाता है. लोक कथाओं में बताया जाता है की करणी माता का जन्म 1387 एक स्थानीय और सामान्य चारण परिवार में हुआ था, बचपन में उनका नाम रिघुबाई था. उनका विवाह किपोजी चारण नामक व्यक्ति से हुआ, लेकिन माता संसारिक बन्धनों से मुक्त होकर किपोजी से अपनी छोटी बहन की शादी करवाकर स्वयं माता की भक्ति में लीन होकर जनसेवा करने लगीं. लोगों की मदद और चमत्कारिक शक्तियों के कारण लोग उन्हें करणी माता के नाम से पूजने लगे, बता जाता है की वर्तमान मंदिर जहां स्थित हैं वहां एक गुफा में माता तप करती थीं.

विक्की पीडिया की जानकारियों के अनुसार अब से लगभग साढ़े छह सौ वर्ष पूर्व जिस स्थान पर यह भव्य मंदिर है, वहां एक गुफा में रहकर मां अपने इष्ट देव की पूजा अर्चना किया करती थीं. यह गुफा आज भी मंदिर परिसर में स्थित है. मां के ज्योर्तिलीन होने पर उनकी इच्छानुसार उनकी मूर्ति की इस गुफा में स्थापना की गई. बताते हैं कि मां करणी के आशीर्वाद से ही बीकानेर और जोधपुर राज्य की स्थापना हुई थी. मंदिर की वास्तु सरंचना की बात करें तो मुख्य द्वार पर संगमरमर पर नक्काशी को भी विशेष रूप से देखने के लिए लोग यहां आते हैं. चांदी के किवाड़, सोने के छत्र और चूहों (काबा) के प्रसाद के लिए यहां रखी चांदी की बड़ी परात भी देखने लायक है.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

खीर भवानी माता मंदिर: रहस्यमय ढंग से बदलता है कुंड के जल का रंग

By Sachin

One thought on “Karni Mata Mandir: 25000 चूहों से भरा अनोखा रहस्यमय मंदिर”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *