केदारनाथ मंदिर

महादेव शिव को समर्पित केदारनाथ मंदिर ऐसा धार्मिक व पवित्र स्थल और ऐसा महाशिवालय है जो चार धाम, पंच केदार और 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है.

भगवान शिव के वास स्थान श्री केदारनाथ मंदिर (Kedarnath Tumple) की महिमा तो पुरे विश्व में विख्यात हैं, महादेव के वास स्थल होने के कारण यह ईश्वर पर आस्था रहने वाले सभी प्राणियों के लिए सबसे पवित्र धार्मिक स्थलों में से एक हैं और यह हिमालय की गोद में स्थापित हैं. भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थापित इस मंदिर के आस पास के क्षेत्र को इसी के नाम यानि की केदारनाथ के नाम से जाना जाता है और विश्व भर पर यह नगर क्षेत्र इस भव्य मंदिर के कारण ही प्रसिद्ध हैं.

केदारनाथ मंदिर व धाम आदिकाल के समय का माना जाता है, पौरोणिक ग्रन्थों के मुताबिक भगवान विष्ण के अवतार महातपस्वी नर और नारायण यहां हिमालय के केदार श्रंग पर तपस्या करते थे, उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर महादेव शिव एक ज्योतिर्लिंग के रूप में स्वयं प्रकट हुए और सदा ही यहां वास करने का वरदान भी दिया. बता दें की इस स्वयंभू ज्योतिर्लिंग के कारण ही यह दिव्य मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में एक हैं.

गौरतलब है की उत्तराखंड में स्थापित पंच केदार का प्रमुख धाम यही है और इसी के नाम पर भगवान शिव के इन पांच मंदिरों के समूह को पंच केदार कहा जाता है. बता दें की पंचकेदार या पञ्चकेदार (पाँच केदार) हिन्दुओं के पाँच शिव मंदिरों का सामूहिक नाम है, इन मन्दिरों से जुड़ी कुछ किंवदन्तियाँ हैं जिनके अनुसार इन मन्दिरों का निर्माण पाण्डवों ने किया था. माना जाता है की जो मनुष्य एक बार जीवन में चार धाम की यात्रा कर लेता है तो उसके सारे पाप नष्ट हो जाते हैं, इस पवित्र स्थल को भी चार धामों में से एक माना गया है. इस महाशिवालय का वर्णन शिव पुराण, रामायण और महाभारत सहित लगभग सभी हिंदू ग्रन्थों में मिलता है.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

तुंगनाथ मंदिर: पांडवों से जुड़ा हुआ है ये पंच केदार का रहस्यमय शिवालय

Leave a Reply

%d bloggers like this: