किराडू मंदिर

बाड़मेर जिले में स्थित किराडू मंदिर में जब रात को कोई ठहरता है तो वह पत्थर बन जाता है, पत्थर बनी एक महिला की मूर्ति आज भी वहां स्थापित है.

राजस्थान के बाड़मेर जिले के हात्मा गांव में स्थित किराडू मंदिर एक ऐसा रहस्यमय मंदिर है, जिसका रहस्य अत्यंत ही आश्चर्यजनक हैं. यह भारत देश का ऐसा मंदिर है, जिसमें रात होते ही कोई नहीं रुकता सभी इससे दूर भागते हैं. बताया जाता है की यदि रात के समय में कोई यहां रुकता है तो वो पत्थर बन जाएगा. इसके अलावा हैरान करने वाली बात यह है की इस मंदिर का निर्माण किसने करवाया यह भी कोई नहीं जानता है, लेकिन मंदिर की रचना से यह प्रतीत होता है की यह लगभग 11 सौ ईसा पूर्व के आसपास बनाया गया है.

अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक स्थानीय लोगों का यही दावा है की इस किराडू मंदिर में रात में रुकना बिलकुल उचित नहीं है. बताया जा रहा है की कई साल पहले एक सिद्ध साधु अपने कुछ शिष्यों के साथ आए थे. एक दिन वो अपने शिष्यों को वहीं छोड़कर कहीं भ्रमण के लिए चले गए. इसी बीच एक शिष्य की तबीयत खराब हो गई. इसके बाद बाकी शिष्यों ने गांव वालों से मदद मांगी लेकिन किसी ने भी उनकी मदद नहीं की. बता दें की यह मंदिर बाड़मेर नगर से तकरीबन 43 किलोमीटर की दुरी पर स्थित हैं.

बाद में जब सिद्ध साधु वहां आए तो उन्हें सारी बातें पता चलीं. इसपर वो गुस्सा हो गए और गांववालों को श्राप दिया कि सूर्यास्त होने के बाद सभी लोग पत्थर के बन जाएं. एक अन्य मान्यता की माने तो कहा जाता है की एक महिला ने साधु के शिष्यों की मदद की थी, इसलिए उस साधु ने महिला से कहा था कि वो शाम ढलने से पहले गांव छोड़कर चली जाए और पीछे मुड़कर ना देखे, लेकिन महिला नहीं मानी और पीछे मुड़कर देखने लगी, जिसके बाद वो पत्थर की बन गई. बता दें की मंदिर से कुछ ही दूरी पर उस महिला की मूर्ति भी स्थापित है.

विक्की पीडिया की जानकारियों के अनुसार खंडहरनुमा जर्जर से दिखते पांच मंदिरों की श्रृंखला की कलात्मक बनावट देखने वालों को मोहित कर लेती हैं. करीब 1000 ई. में यहां पर पांच मंदिरों का निर्माण कराया गया. लेकिन इन मंदिरों का निर्माण किसने कराया, इसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी उपलब्ध नहीं है. लेकिन मंदिरों की बनावट शैली देखकर लोग अनुमान लगाते है कि इनका निर्माण दक्षिण के गुर्जर-प्रतिहार वंश, संगम वंश या फिर गुप्त वंश ने किया होगा. मंदिरों की इस शृंखला में केवल विष्णु मंदिर और शिव मंदिर थोड़े ठीक हालात में है, बाकि मंदिर खंडहर में तब्दील हो चुके हैं. श्रृंखला में सबसे बड़ा मंदिर शिव को समर्पित नजर आता है.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

जगन्नाथ मंदिर: तेज धुप में छत से टपकता है पानी, वैज्ञानिक भी हैरान

One thought on “किराडू मंदिर: रात में यदि कोई रुका तो बन जाएगा पत्थर”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: