नंदीग्राम

नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के दौरान ममता बनर्जी चोटिल हो गई हैं. ममता का कहना है की यह उनके खिलाफ़ कोई साजिश हैं.

नंदीग्राम

पश्चिम बंगाल चुनाव सर पर है और सत्ताधारी पार्टी की मुखिया ममता बनर्जी चोटिल हो चुकी हैं. हालांकि ममता की चोट ज्यादा गम्भीर नहीं हैं. तत्कालीन पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री को नंदीग्राम में पैर पर चोट लगने की खबर सामने आई हैं. इस खबर की जानकारी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद दी हैं. ममता के मुताबक यह उनके खिलाफ़ साजिश हैं. आपको बता दें की ममता बनर्जी पर पश्चिम बंगाल के विधानसभा क्षेत्र नंदीग्राम में हमला हुआ और इस बार ममता बनर्जी नंदीग्राम से ही चुनाव लड़ने वाली हैं. इस हमले के बाद चुनाव आयोग ने नंदीग्रामपुलिस से ममता बनर्जी की सुरक्षा को लेकर रिपोर्ट मांगी हैं.

नंदीग्राम से कोलकता जा रही ममता पर हुआ हमला

ममता बनर्जी का कहना है की रस्ते में उनका किसी ने पैर कुचल दिया. जिससे उनके पैर में चोट लगी. साथ ही TMC मुखिया का कहना है की यह उनके खिलाफ़ साजिश की जा रही हैं. ममता बनर्जी ने कहा की ‘जब वो अपने कार के पास खड़ी थीं तो कुछ लोगों ने उन्हें धक्का दे दिया और जब मुझे किसी ने धक्का दिया तब कोई वहां पर कोई स्थानीय पुलिस मौजूद नहीं थी. किसी ने जानबूझकर मेरा पैर कुचला’. TMC के नेताओं ने इस घटना को ममता पर हमला बताया तो बीजेपी इसे पूरी नोटंकी बता रही हैं.

बंगाल के प्रभारी और बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर कहा कि ममता बनर्जी पर भला कौन हमला कर सकता हैं. बंगाल में तो दीदी का पूरा दबदबा हैं. कैलाश विजयवर्गीय आगे कहते है की ‘चुनाव नजदीक है तो ममता सहानुभूति हासिल करने के लिए ऐसी नौटंकी कर रही हैं. इस पुरे घटना कर्म की जाँच होनी चाहिए’. कैलाश विजयवर्गीय ने चैलेंज करते हुए कहा की ‘में चैलेंज करता हूं की अगर इस मामले की CBI जाँच होती है तो यह साफ़ हो जाएगा की ममता बनर्जी चुनाव से पहले सहानुभूति पाने के लिए ऐसी नोटंकी कर रही हैं.

वहीँ इस मामले में पश्चिम बंगाल में बीजेपी के उपाध्यक्ष अर्जुन सिंह का कहना है की ‘क्या यह तालिबान है, कि उसके काफिले पर हमला किया गया था? विशाल पुलिस बल उनके साथ जाता हैं. उनके पास कौन मिल सकता है? 4 आईपीएस अधिकारी उनके सुरक्षा प्रभारी है और उन्हें निलंबित किया जाना चाहिए. हमलावर कहीं से भी बाहर नहीं दिखाई देते हैं, उन्हें नाक में दम करना पड़ता हैं. उन्होंने सहानुभूति के लिए नाटक किया गया हैं.

यह भी पढ़ें :-

तीरथ सिंह रावत ने ली मुख्यमंत्री पद की शपत,सफ़लता का कारण RSS

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *