पॉर्न वेबसाइट

मोदी सरकार ने एक बार फिर से इंटरनेट कंपनियों को 67 पॉर्न वेबसाइट पर प्रतिबंद लगाने के आदेश दिए हैं, इससे पहले भी कुल 900 साइटें प्रतिबंधित की जा चुकी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इंटरनेट के जरिए अश्लीलता रूपी जहर को बढ़ावा देवे वाली पोर्न साइट्स पर एक बार फिर से मोदी सरकार ने एक्शन लिया है। इस बार सरकार ने इंटरनेट प्रोवाइडर कंपनियों को आदेश जारी कर 67पोर्न साइट्स को बैन करने का आदेश दिया है। सरकार ने ये आदेश पुणे की एक अदालत और उत्तराखंड की एक अदालत के आदेश को लागू करने के लिए दिया है। इसी के साथ देश में अब बैन हो चुकी पोर्न साइट्स की संख्या बढ़कर 900 पहुँच गई है।

सरकार के इस एक्शन का खुलासा उस वक्त हुआ जब गुरुवार (29 सितंबर 2022) को चार सीक्रेट्स लेटर सामने आए, जिसमें सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यस्थ देयता और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम- 2021 का हवाला दिया था। इसमें उल्लेख किया गया था कि केंद्र सरकार के दूरसंचार मंत्रालय ने पुणे की एक अदालत के आदेशानुसार 63 उत्तराखंड की कोर्ट के निर्देश पर 4 वेबसाइटों को बैन करने के लिए इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों को पत्र जारी किया था।

ये ईमेल दूरसंचार विभाग ने 24 सितंबर 2022 को भेजा गया था। इसमें कहा गया है,  “सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यस्थ दिशा-निर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम, 2021 के नियम 3(2)(बी) के साथ-साथ न्यायालय (उत्तराखंड उच्च न्यायालय) के आदेश के अनुपालन के तहत कुछ अश्लील सामग्रियों वाली वेबसाइट/यूआरएल को हटाने (ब्लॉक) करने का निर्देश दिया गया है, जो महिलाओं की मर्यादा एवं उनकी छवि को खराब करती हैं।”

उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड हाई कोर्ट ने साल 2018 में एक आदेश जारी किया था, जिसमें सरकार को पोर्न कंटेट परोसने वाली 857 वेबसाइटों पर नकेल कसने को कहा गया था। कोर्ट के आदेश के बाद सरकार ने 827 पोर्न प्रोवाइडर वेबसाइटों पर प्रतिबंध लगा दिया था।

इससे पहले साल 2015 में जब भारत सरकार ने पोर्न कंटेंट परोसने वाली वेबसाइटों को बैन किया था तो उस पर भड़के फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा ने कहा था, ”न केवल उन्होंने बैन लगाया, बल्कि अब मुझे लगता है कि सरकार जल्द ही बेडरूम में यह देखने के लिए घुसेगी कि लोग कैसे सेक्स कर रहे हैं। मुझे लगता है कि सरकार अब कपल्स को निर्देश देगी कि वो सेक्स कैसे करें और कैसे न करें। साथ ही पोजिशन्स भी बताएगी।” उल्लेखनीय है कि देश में अश्लीलता भरा वातावरण फैलाने में बॉलीवुड का बड़ा रोल रहा है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

पीएफआई को मोदी सरकार ने किया 5 साल तक बैन, भाजपा नेताओं की रही ये प्रतिक्रिया

%d bloggers like this: