पीएम

पीएम मोदी ने उत्तराखंड दौरे को लेकर कहा, ”बाबा केदार और बद्री विशाल जी के दर्शन करके मन प्रसन्न हो गया, जीवन धन्य हो गया। माणा गाँव, भारत के अंतिम गाँव के रूप में जाना जाता है। लेकिन मेरे लिए सीमा पर बसा हर गाँव, देश का पहला गाँव है।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने उत्तराखंड के दौरे पर भारत के आखिरी गांव माणा पहुंचे जहां से मात्र 56 किमी की दूरी पर तिब्बत (चीन) सीमा है। इसी अवसर पर पीएम मोदी ने माणा गाँव और बद्रीनाथ में सड़क और रोपवे परियोजनाओं का शिलान्यास क‍िया। वहीं पीएम मोदी ने बाबा केदारनाथ और बद्रीनाथ के भी दर्शन किए।

बाबा केदारनाथ और बद्रीनाथ जी के दर्शन करके जीवन धन्य हो गया

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पीएम मोदी ने कहा ,”बाबा केदारनाथ और बद्री विशाल जी के दर्शन करके मन प्रसन्न हो गया है और जीवन धन्य हो गया है। माणा गाँव भारत का आखिरी गाँव के रूप में जाना जाता है। लेकिन मेरे लिए सीमा पर बसा हर गाँव, देश का पहला गाँव है।” वहीं पीएम मोदी ने उन्होंने के ग्रामीणों की भी जमकर तारीफ की।

गुलामी की मानसिकता हटानी है

पीएम मोदी ने जनता को संबोधित करते हुए यह भी कहा कि 21वीं सदी में भारत के विकसित राष्ट्र बनाने के दो प्रमुख स्तंभ हैं। पहला अपनी विरासत पर गर्व करना और दूसरा विकास के लिए हर संभव प्रयास। पीएम मोदी ने अपनी बात रखते हुए आगे कहा, ”देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर मैंने लाल किले पर एक आह्वान किया। ये आह्वान हैं गुलामी की मानसिकता से पूरी तरह निजात। क्योंकि यह देश की आज़ादी के इतने सालों के बाद भी हमारे देश को गुलामी की मानसिकता ने ऐसे जकड़ा हुआ है कि कुछ लोगों को प्रगति का कार्य अपराध लगता हैं।

5 प्रतिशत स्थानीय उत्पाद पर खर्च करो

वहीं इसके साथ ही पीएम मोदी ने लोगों ने यात्रियों से स्‍थानीय उत्‍पादों पर खर्च करने का कहा। उन्‍होंने कहा, ”लोकल फॉर वोकल की तरह ही आज मैं आपसे एक संकल्प की प्रार्थना करता हूँ। आप अपनी यात्रा पर जितना भी पैसा खर्च करते हैं उसमें से 5 प्रतिशत भी अगर स्थानीय उत्पादों पर खर्च करेंगे तो ये स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने की दिशा में एक बड़ा कदम होगा और स्थानीय उत्पाद खरीदने से आपको संतोष भी होगा।”

3400 करोड़ की योजनाओं का किया शिलान्यास

इसके साथ-साथ पीएम मोदी ने केदारनाथ, बद्रीनाथ और माणा गांव में 3400 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास क‍िया। जिसमें केदारनाथ और हेमकुंड साहिब रोपवे और तिब्बत सीमा से लगे माणा गांव में दो राजमार्गों से संबंधित योजनाएँ शामिल हैं।

पूरा उत्तराखंड मोदी-मोदी के नारों से गूंज उठा

पीएम मोदी ने अपने संबोधन के आखिरी में सभी नागरिकों को दीपावाली , गोवर्धन पूजा और भैया दूज की शुभकामनाएं दी। अंत में पीएम मोदी ने जय बाबा केदार व बद्रीविशान के जयकारों के साथ अपना भाषण समाप्‍त किया। इसके बाद लोगों ने जनसभा स्‍थल में नारे लगाना शुरू कर दिया और पूरा जनसभा स्थल मोदी-मोदी केनारों से गूंज उठा।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

पीएम मोदी ने लॉन्च किया 5G, अब 4G से 10 गुना तेज इंटरनेट स्पीड: पढ़ें रिपोर्ट

One thought on “भारत के अंतिम गाँव में भी गुंजा ‘मोदी-मोदी’ नारा, पीएम ने कहा ‘ये अंतिम नहीं पहला गाँव है’”

Comments are closed.

%d bloggers like this: