बकरीद

भगवान आदिनाथ को समर्पित बद्रीनाथ धाम में बकरीद के दिन 15 लोगों ने नमाज़ पढ़ी, VHP के विरोध के बाद उन 15 मुस्लिमों पर केस दर्ज कर लिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हिंदुओं के सबसे पवित्र स्थलों में से एक और चार धामों में भी प्रमुख धाम बद्रीनाथ धाम में बकरीद के दिन नमाज पढ़ी गई, बात के बाहर आते ही विश्व हिंदू परिषद ने इसका कड़ा विरोध किया है. मामले के गर्माने के बाद पुलिस भी सक्रिय हुई हैं और उन सभी 15 मुस्लिमों पर केस दर्ज कर लिया है, जिन्होंने ने बद्रीनाथ धाम में नमाज पढ़ी थी. बता दें की विश्व हिंदू परिषद और कुछ अन्य हिंदू संगठनों ने भी प्रशासन से कार्रवाई की मांग भी करी है.

देश भर में 21 जुलाई 2021 को बकरीद का त्यौहार मनाया जा रहा था, वहीं भारत के उत्तर में स्थित भगवान आदिनाथ को समर्पित बद्रीनाथ धाम में कुछ ऐसा हुआ जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी. उत्तराखंड के चमोली क्षेत्र में स्थित बद्रीनाथ धाम में 15 विशेष समुदाय के लोगों ने ईद की नमाज अदा करी. जिससे विश्व हिंदू परिषद सहित कई हिंदू संगठनों में बहुत आक्रोश दिख रहा है और VHP ने राज्य के पर्यटन मंत्री को इसके खिलाफ़ कार्रवाई की मांग करते हुए ज्ञापन भेजा है.

इस ज्ञापन में विहिप अधिकारीयों का आरोप है की “बद्रीनाथ धाम में जानबूझकर नमाज पढ़ी गई है. जब बद्रीनाथ धाम पूरी तरह से हिन्दू श्रद्धालुओं के लिए बंद है और वहाँ हिंदुओं को दर्शन तक की अनुमति नहीं है तो फिर वहाँ नमाज कैसे पढ़ी जा सकती है?” इस मुद्दे पर पुलिस की ओर से भी स्टेटमेंट सामने आ चुकी हैं, मामले में पुलिस ने सफाई देते हुए कहा की “मुस्लिम श्रमिकों ने एक बंद कमरे में नमाज पढ़ी थी”. इसके अलावा पुलिस ट्विट कर नमाज की खबरों को अफवाह बताया है.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

हिंदुओं को खुद ही बचाव करना होगा, बंगाल हिंसा पर विश्व हिंदू परिषद का बयान

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *