नरेंद्र गिरि मामला

निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि मामला अब नया मोड़ ले चूका है, क्योंकि उनकी हत्या के अंदेशे से पुलिस 8 लोगों का लाई डिटेक्टर टेस्ट करेगी.

नरेंद्र गिरि मामला

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रयागराज के निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का शव सोमवार 20 सितंबर 2021 शाम प्रयागराज में अपने बाघंबरी मठ स्थित आवास पर ही फंदे से लटका हुआ पाया गया. आज 22 सितंबर को उन्हें अंतिम विदाई दी गई. अंतिम संस्कार में उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ भी महंत नरेंद्र गिरि के अंतिम दर्शन करने पहुंचे थे.

शुरू में तो इस मामले को आत्महत्या की दृष्टि से देखा जा रहा था, मगर धीरे – धीरे इसकी गुत्थी उलझती जा रही है. बता दें की महंत के शव के पास से 7 से 8 पन्नों का सुसाइड नोट बरामद हुआ था, परन्तु अब खबर आ रही है की उन्हें तो लिखना भी नहीं आता था. इस सच्चाई के बाद यह तो तय हो गया है की इस मामले में ओर भी बड़े नाम सामने आने वाले हैं. सूत्रों के अनुसार महंत नरेंद्र गिरि को वीडियो के दम पर ब्लैकमेल किया जा रहा था, जिस वजह से उन्होंने आत्महत्या की थी.

गौरतलब है की मामले से जुड़ी नई अपडेट यह है की पुलिस में अब इस मामले को आत्महत्या के बजाए मौत की दृष्टि से देखना शुरू कर दिया है और जांच भी आरंभ की है. जांच के लिए SIT बनाई गई है. वहीं SOG की टीम ने प्रयागराज में आनंद गिरि से पूछताछ करी है. बताया जा रहा है की महंत की हत्या के केस में पुलिस द्वारा 8 लोगों का लाई डिटेक्टर टेस्ट किया जाएगा.

बता दें की इस मामले को सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी सख्ती दिखाते हुए कहा “इस मामले से जुड़े हर राज का पर्दाफाश होगा और दोषियों को नहीं बक्शा जाएगा”. शक घेरे में आ रहे महंत के शिष्य आनंद गिरि ने कहा “मेरे और महंत जी में कोई विवाद नहीं था. ये मठ की जमीन से पैसा कमाने वालों की साजिश है. कुछ लोगों ने पैसों लिए महंत जी को ब्लैकमेल किया. गुरुजी सुसाइड नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है. गुरुजी ने जिंदगी में कभी पत्र नहीं लिखा. गुरुजी की हैंड राइटिंग की जांच की जानी चाहिए. मुझे यकीन है ये हत्या है वो सुसाइड नहीं कर सकते. जब हमारा समझौता हुआ, तब वहां पुलिस अधिकारी भी थे. संपत्ति के लिए उनकी हत्या हुई”.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

सीएम योगी ने साढ़े 4 सालों के काम का रिपोर्ट कार्ड किया पेश

By Sachin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *