झारखंड

इन दिनों झारखंड के धनबाद में रेलवे नगर निगम अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इसी के तहत ‘हनुमान जी’ को भी नोटिस पहुंचा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रेलवे, डाक विभाग, नगर निगम सहित विभागों की जमीन पर अतिक्रमण कर लोग अपना घर-दुकान आदि बना लेते है इसलिए समय-समय पर ऐसे अवैध कब्जों को हटाने के लिए संबंधित विभाग अतिक्रमण हटाओ अभियान शुरू करता है। परंतु झारखंड के धनबाद से एक अजीबोगरीब हैरतंगेज कर देने वाला मामला सामने आया है।

क्या था नोटिस में?

ईस्ट सेंट्रल रेलवे ने 7 अक्टूबर 2022 को भगवान हनुमान को नोटिस भेजा है। उन्होंने कहा की भगवान हनुमान को 10 दिन के भीतर ज़मीन करनी होगी अगर उन्होंने ऐसा नही किया तो खिलाफ कानूनी कारवाई की जाएगी। इस नोटिस में भगवान हनुमान जी का नाम लिखा है। इस पोस्टर में लिखा है, ‘आपका मंदिर रेलवे की जमीन पर है। वहां अवैध कब्जा किया गया है। नोटिस मिलने के 10 दिनों के अंदर मंदिर हटा लें और जमीन खाली कर दें। नहीं तो आपके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

रेलवे ने कहा मानवीय भूल हुई हमसे

इस मामले को संज्ञान में लेकर सीनियर सेक्शन इंजीनियर धनबाद रेल मंडल ने कहा की यह सिर्फ एक मानव भूल है। इस नोटिस में गलती से भगवान हनुमान का नाम लिख दिया गया है।इस गलती को सुधार दिया जायेगा और हम ध्यान रखेंगे की भविष्य में हमसे ऐसी गलती नहीं होगी। उन्होंने यह भी कहा की हमारा मकसद किसी को भावनाओ को ठेस पहुंचाना नहीं था अपितु अतिक्रमण को हटाना था।

बस्ती के 300 लोगो को भी नोटिस

दरअसल धनबाद के बेकारबांध इलाके में खटीक बस्ती नामक एक मोहल्ला है। रेलवे का कहना है कि इस मोहल्ले के कई मकान-दुकान रेलवे की जमीन पर बने है। इसी पर हनुमान मंदिर भी बना है। रेलवे ने मंदिर के अलावा 300 लोगों को नोटिस भेजा है। वहीं यहाँ के स्थानीय लोगों का कहना है कि वह वर्षों से रेलवे की जमीन पर रह रहे हैं। ऐसे में उन्हें परेशान करने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है। हनुमान मंदिर पर नोटिस चस्पा करने पर उन्होंने कहा कि रेलवे की जमीन पर अन्य धर्मों के स्थान भी हैं, लेकिन नोटिस सिर्फ इसी मंदिर को ही जारी किया गया है।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

झारखंड के सीएम के विधायक भाई ‘अंडरगारमेंट्स’ के लिए जाते हैं दिल्ली: देखें वीडियो

%d bloggers like this: