अमित शाह

तवांग संघर्ष पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, “कॉंग्रेस के समय चीन ने हड़पी हजारों हेक्टेयर जमीन, नेहरू ने भेंट कर दी UN सुरक्षा परिषद की सीट”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर कॉंग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने संसद में खूब हंगामा किया है। इस पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सबको जवाब देते हुए कॉंग्रेस पर सीधा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि कॉंग्रेस के शासन में चीन ने हजारों किलोमीटर भारत की जमीन हड़प ली थी। लेकिन, अब ऐसा नहीं होगा। उन्होंने एक वीडियो भी शेयर किया:-

गृह मंत्री अमित शाह ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “कांग्रेस जवाब दे कि वर्ष 2005-07 के बीच राजीव गाँधी फाउंडेशन ने चीनी दूतावास से जो 1 करोड़ 35 लाख रुपये प्राप्त किये उनसे क्या किया?  कांग्रेस देश को बताये कि राजीव गाँधी चैरिटेबल ट्रस्ट ने जाकिर नाइक की संस्था से बिना अनुमति के FCRA खाते में जुलाई 2011 को 50 लाख रुपये क्यों लिए?” वहीं उन्होंने ने ‘राजीव गाँधी फाउंडेशन’ को चीन से मिलने वाले फंड पर भी निशाना साधा है।

आपको बताते चलें कि गृह मंत्री ने कहा, “विपक्ष ने अरुणाचल में घटी घटनाओं का हवाला देते हुए बहुमूल्य प्रश्नकाल को स्थगित करवा दिया। यह निंदनीय है। इसका कोई औचित्य नहीं था। जब रक्षा मंत्री ने इस विषय पर अपना बयान रखने की बात कर ही दी, तो इसका कोई औचित्य ही नहीं था। मुझे आश्चर्य लगा, लेकिन जब प्रश्नकाल की सूची देखा तो 5 नंबर का प्रश्न देखकर मैं इनकी चिंता समझ गया था।”

अमित शाह का यह भी कहना है, “क्या उनके (कॉंग्रेस) शोध में 1962 में भारत की हजारों हेक्टेयर जमीन चीन ने हड़प ली, वो शामिल था क्या? यदि शोध किया तो रिपोर्ट क्या आई है? नेहरू जी के प्रेम के कारण सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता बलि चढ़ गई। इस विषय को उन्होंने शोध का विषय बनाया था क्या? अगर बनाया था तो इसका नतीजा क्या हुआ?” शाह ने यह भी कहा, “जिस समय गलवान घाटी में हमारे सेना के वीर जवान चीनियों से भीड़ रहे थे, उस समय चीनी दूतावास के अधिकारियों को कौन रात्रि भोज दे रहा था? वो उनकी शोध का विषय था क्या? अगर था तो उसका नतीजा क्या हुआ?”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

“ओर भी होंगी सर्जिकल स्ट्राइक” गृहमंत्री अमित शाह का दावा

%d bloggers like this: