पीएम मोदी

आज देश के यशस्वी प्रधान मंत्री मोदी अपना 72वां जन्मदिन मना रहे हैं, लेकिन उनके जन्मदिन पर उनके विरोधी और हेटर्स ‘राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस’ हैशटैग को ट्रेंड करवा रहे हैं।

प्राप्त जानकारियों के मुताबिक प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने वालों में से अधिकतर लोग कॉंग्रेस जैसी विपक्षी दलों के समर्थक हैं। पिछले वर्ष पीएम मोदी के जन्मदिन पर यही हैशटैग ट्रेंड करवाया गया था और इस बार भी #राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस को ट्रेंड करवाया जा रहा है। अब तक कुल साढ़े 3 लाख से भी ज्यादा लोगों ने इस पर ट्वीट और रीट्वीट्स किए हैं।

पीएम मोदी
ट्रेंड हो रहा ‘राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस’

जयराम रमेश नामक एक यूजर ने लिखा, “20-24 वर्ष के 42% युवा बेरोज़गार हैं। महामारी से पहले ही भारत में 45 वर्षों में सबसे अधिक बेरोज़गारी थी। पिछले कुछ वर्षों से युवा 17 सितंबर को ‘राष्ट्रीय बेरोज़गार दिवस’ के रूप में मनाते आ रहे हैं। भारत जोड़ो यात्रा युवा विरोधी मोदी सरकार के खिलाफ एकजुटता के साथ आगे बढ़ रही है।”

वहीं हंसराज मीणा ने लिखा, “●भर्ती का नाम – SSC GD 2018 ● फार्म आवेदन संख्या – 58 लाख ●प्रति फार्म फीस – 200 ●मेडिकल फिट युवा – 1,09,000 ●नियुक्ति पत्र मिला – केवल 54 हजार ●बाकी 55 हजार युवा 17माह से रोड़ पर ●85% अभ्यार्थी आयु सीमा पार ●विभाग में रिक्त कुल पद खाली -1,27,049”

इसके अलावा एक अन्य ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया कि कोरोना महामारी के कारण UPSC, IBPS, SSC, आर्मी व JEE के छात्रों का आखरी अवसर चला गया। इन्हें उम्र सीमा में छूट प्रदान कर इन्हें Extra Attempt नहीं दिया गया। इसलिए छात्र आज राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस मना रहे है।

गौरव श्रीवास्तव नामक यूजर ने सरकार को चेतावनी देते हुए लिखा, “पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर ‘राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस’ मनाएगा कांग्रेस का छात्र संगठन, ‘NSUI’। रेलवे, NTPC परीक्षा में लेटलतीफी JEE, NEET, CUET परीक्षाओं में घोटाले इन्हीं मुद्दों को लेकर NSUI कल जयपुर, हैदराबाद, भोपाल जैसे शहरों में बेरोजगारी पर बड़ा प्रदर्शन करेगी।

एक ओर यूजर नीरज कुंदन लिखते हैं, “किन वजहों से आज छात्र यह सवाल करने को मजबूर है – कारण – 1 : 2019 से अधूरी NTPC की भर्ती SSC-CGL में नार्मलाइजेशन का घोटाला DRDO – MTS में बिना परीक्षा के रद्द करना इसलिए छात्र आज राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस मना रहे है।”

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

पीएम मोदी 72 साल: विवादित बयानों से दूरी, फिर भी बने ‘हिंदू हृदय सम्राट’

%d bloggers like this: