PM मोदी

PM मोदी ने 6 अगस्त 2021 को देशवासियों के लिए बड़ा ऐलान किया, भारत में खेल रत्न पुरस्कार को होकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम कर दिया.

भारत में 1992 से खेल के सर्वोच्च सम्मान का नाम पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के नाम पर ‘राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’ था, मगर वर्तमान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे बदलकर भारतीय पूर्व होकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम पर ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार’ रख दिया है. इस मौके पर उन्होंने ट्विट कर कहा की “मेजर ध्यानचंद के नाम पर खेल रत्न पुरस्कार का नाम रखने के लिए देशभर से नागरिकों का अनुरोध मिले हैं. मैं उनके विचारों के लिए उनका धन्यवाद करता हूँ. उनकी भावना का सम्मान करते हुए, खेल रत्न पुरस्कार को मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार कहा जाएगा! जय हिंद!”

PM मोदी के इस निर्णय के बाद कई कोंग्रेसी नेताओं की भी प्रतिक्रियाएं भी सामने आई, मगर राजीव गांधी के बेटे राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर एकदम से चुप्पी साध ली. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कोंग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से जब मीडिया ने इस पर सवाल पूछा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया और चुप्पी साध ली. जबकि अन्य कुछ कोंग्रेसी नेताओं ने इस पर अपने – अपने विचार प्रकट भी किए.

एक जाने माने कोंग्रेस के सांसद ने इस निर्णय को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा की “राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद खेल रत्न अवॉर्ड करना दुर्भाग्यपूर्ण है”. इनके अलावा कॉन्ग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मुद्दे पर कहा की “मेजर ध्यानचंद जी का नाम अगर भाजपा और पीएम मोदी अपने राजनीतिक उद्देश्यों के लिए न घसीटते तो अच्छा था. राजीव गाँधी जी इस देश के नायक थे, नायक रहेंगे. राजीव गाँधीजी पुरस्कारों से नहीं, अपनी शहादत, अपने विचारों और आधुनिक भारत के निर्माता के तौर पर जाने जाते हैं”.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष, PM मोदी इन कारणों से दिया ऐसा बयान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: