बाबा बैद्यनाथ मंदिर

डासना के बाद अब झारखंड में अतिप्रसिद्ध देवघर नामक स्‍थान पर अवस्थित बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर में इरफ़ान अंसारी के प्रवेश को लेकर विरोध उठ चूका है.

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में डासना के शिव शक्ति मंदिर में जिस तरह गैर हिंदू का प्रवेश वर्जित है, ठीक उसी तरह झारखंड में अतिप्रसिद्ध देवघर जिले के बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर से आवाज उठी है. दरअसल कोंग्रेस के विधायक इरफ़ान अंसारी के मंदिर में प्रवेश को राष्ट्रीय सनातन धर्म मंच की ओर से बहुत विरोध किया जा रहा है.

बाबा बैद्यनाथ मंदिर

बाबा बैद्यनाथ मंदिर में गैर हिंदू का प्रवेश वर्जित

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बाबा बैद्यनाथ मंदिर के गर्भ गृह में गैर हिदू का प्रवेश नहीं है, कई मुस्लिम अधिकारी, राजनेता यहां आए, प्रांगण तक ही रहे, लेकिन उनको गर्भगृह में प्रवेश नहीं करने दिया गया. बता दें की पूर्व केंद्रीय मंत्री फारूख अब्दुल्ला आए थे परन्तु वे तारा मंदिर के निकट खड़े होकर स्तुति वंदना कर के ही वापस चले गए थे.

इन सब के बावजूद भी कोंग्रेस के विधायक इरफ़ान अंसारी इस मंदिर में प्रवेश करना चाहते हैं, अब इसी पर राष्ट्रीय सनातन धर्म मंच ने विरोध जताते हुए कहा की “धर्म की राजनीति व धर्म के साथ खिलवाड़ करना राजनेता बंद करें यह अनुचित है, किसी की आस्था के साथ खिलवाड़ नहीं किया जाना चाहिए था, इसकी जितनी भी निदा की जाए कम है, राष्ट्रीय सनातन धर्म मंच इसकी निदा करती है”.

बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर की स्थापना की कथा

इस मंदिर की स्थापना की कथा लंकेश दशानन से जुडी है. माना जाता है की रावण ने महादेव को प्रसन्न कर उनसे इस शिवलिंग को लंका ले जाने का वरदान मांगा, शिव ने स्वीक्रति देते हुए कहा की यदि मार्ग में कहीं भी इसे रखा तो वहां से वापस इसे उठाया नहीं जा सकता. चिताभूमि तक आते ही एक लघुशंका के कारण रावण ने इसे रख दिया.

वरदान अनुसार रावण उसे फिर उठा नहीं सका और लंका को चला गया. फिर विष्णु व ब्रह्मा ने शिवलिंग की पूजा की और शिव को प्रसन्न किया, शिव जी के दर्शन के बाद सभी देवताओं ने शिवलिंग की प्रतिस्थापना कर दी और शिव-स्तुति करते हुए वापस स्वर्ग को चले गये.

इसे भी पढिए:-

हिंदुओं का डासना में उमड़ा सैलाब, नहीं पहुंचा धमकाने वाला बसपा विधायक असलम

By Sachin

One thought on “विधायक इरफ़ान अंसारी के बाबा बैद्यनाथ मंदिर में प्रवेश को लेकर विरोध”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *