महादलित

पूर्णिया बिहार की एक महादलित बस्ती में रिजवी, शाकिल और इलियास ने आग फूंक दी, जिसके बाद से घटना ने तुल पकड़ लिया और बात थाने तक पहुंच गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बिहार राज्य के पूर्णिया जिले में बायसी थाना के अंतर्गत मझुआ गाँव में 19-20 मई वाली रात को ही यहां की महादलित बस्ती के एक दर्जन से भी ज्यादा घरों को जलाकर राख कर दिया, आग लगाने वालों में रिजवी, शाकिल और इलियास का नाम सामने आ रहा है, इनके अलावा 150 से भी ज्यादा लोगों की भीड़ पर आरोप लगाया जा रहा है.

बता दें की घटना की जांच करने के लिए अनुसूचित जाति आयोग की एक टीम घटना स्थल पर पहुंच चुकी हैं. इस टीम का नेतृत्व अनुसूचित जाति आयोग के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कर रहे हैं और उन्होंने तत्काल दोषियों के खिलाफ़ कार्रवाई की मांग करी हैं. भूमि को लेकर यहां पर साल 2015 में भी इसी तरह की हिंसक घटना को अंजाम दिया गया था. 24 अप्रैल 2021 को भी यहां महादलितों की पिटाई की गई और एक घर आग के हवाले किया गया. पीड़ित का आरोप है की पुलिस की लापरवाही के कारण मुस्लिम भीड़ ने यह दोबारा किया है.

फरमान ने 25 वर्षीय अपाहिज दलित युवती का गन्ने के खेत में किया बलात्कार

SC-ST आयोग के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और बनमनखी विधायक कृष्ण कुमार ऋषि और भारतीय जनता पार्टी के MLC दिलीप जायसवाल ने घटना स्थल पर पहुंच कर पीड़ितों से मुलाकात की है, कृष्ण कुमार ऋषि ने कहा की “यह बहुत दुःखद, अमानवीय और क्रूर वारदात है. प्रशासन ने अभी तक सिर्फ 2 लोगों को गिरफ्तार कर खानापूर्ति की है, जबकि इस मामले में दो अलग-अलग FIR में लगभग 60 नामजद और 100 अज्ञात आरोपित हैं”. उन्होंने अपने बयान में आगे कहा की “रिपोर्ट आयोग को भेजे जाने के बाद सरकार को पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए कहा जाएगा”. वहीं MLC दिलीप जायसवाल ने इस मसले में प्रशासन पर आरोप लगाया.

इसे भी जरुर ही पढिए:-

सराय काले खां के दलित परिवार को भाजपा नेता ने दिया सहयोग

Leave a Reply

%d bloggers like this: