रिजवान अहमद

वकील रिजवान अहमद ने मौलाना साजिद रसीदी के ‘जूते चप्पल’ वाले बयान की तुलना अपने कुत्ते के भोंकने से कर दी है, जिसका वीडियो भी सामने आया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा प्रदेश के मदरसों के बेहतरीकरण को लेकर सर्वे करने के आदेश पर बवाल खड़ा हो गया है। मौलाना साजिद रसीदी ने सर्वे करने वालों को जूते-चप्पल से मारने को कह दिया। इसी क्रम में अब वकील रिजवान अहमद ने साजिद रसीदी की तुलना अपने कुत्ते से कर दी है। देखें ये वीडियो:-

उन्होंने कहा कि कुछ लोगों के बयान पर रिएक्शन देने की बजाय वो अपने कुत्ते ‘ब्लैकी’ के भौंकने पर प्रतिक्रिया देना ज्यादा पसंद करेंगे। दरअसल, टाइम्स नाऊ नवभारत चैनल पर एंकर सुशांत सिन्हा का डिबेट शो चल रहा था। बस का मुद्दा साजिद रसीदी का वो बयान था, जिसमें उन्होंने सर्वे टीम को जूते-चप्पल मारने को कहा था। एंकर ने उनके इस बयान पर वकील रिजवान अहमद की प्रतिक्रिया माँगी

इस पर अहमद ने कहा, “कुछ लोगों के बयान ऐसे होते हैं (अपना कुत्ता दिखाते हुए) जिन पर रिएक्शन देने से बेहतर मैं मेरे कुत्ते के भौंकने पर रिएक्शन भले ही दे दूँ, उनके बयान पर नहीं दूँगा। लेकिन मैं किसी का नाम नहीं लूँगा, जिसे जो मतलब निकालना है, निकाल सकता है।” उनके इस बयान पर जब एंकर सुशांत सिन्हा ने उन्हें रोकते हुए कहा कि आप इस तरह से किसी की बेइज्जती नहीं कर सकते।

एंकर की बातों के जबाव में रिजवान अहमद ने कहा, “आप कैसे इसका मतलब निकाल सकते हैं, जब रसीदी भाई ये मतलब नहीं निकाल सकते हैं कि जूते-चप्पल से स्वागत का मतलब जूते मारना है तो इस डिबेट में सुशांत सिन्हा कैसे मतलब निकाल सकते हैं कि मैं अपने काले कुत्ते की तुलना उसके बयान से कर रहा हूँ, जिसका मैं नाम नहीं ले रहा हूँ। इसमें क्या है अनैतिक है और ये आप कैसे कह सकते हैं, बिल्कुल नहीं कह सकते हैं।”

रिजवान अहमद ने इशारों में रसीदी को आइना दिखाते हुए कहा कि जिसने भी इस तरह का बयान दिया है, उसके बयान की इज्जत कुत्ते के भौंकने से भी कम है। इसके साथ ही रिजवान अहमद ने असदुद्दीन ओवैसी के उस बयान पर बात की, जिसमें उन्होंने मदरसों के सर्वे पर कहा था कि सरकार को प्राइवेट स्कूलों और आरएसएस के स्कूलों का भी सर्वे करना चाहिए। ओवैसी के बयान पर रिएक्शन देते हुए रिजवान अहमद ने दावा किया कि जो आरएसएस के स्कूल हैं, वहाँ जाकर उनका बोर्ड देखो, वो सभी सीबीएससी बोर्ड से चल रहे हैं।

इसे भी जरूर ही पढ़िए:-

मदरसों के सर्वे पर मौलाना ने कहा, ‘नोटिस लेकर आने वाले का जूते-चप्पल से करो…’

%d bloggers like this: